Deewali Ke Deep Jale - Firaq Gorakhpuri

Deewali Ke Deep Jale - Firaq Gorakhpuri


Hello Friends Kaise Hai Aap Log Aaj Mai Aap Logon Ke Liye Ek Badi Pyaari Ghazal "Deewali Ke Deep Jale" Lekar Aaya Hu Jise "Firaq Gorakhpuri Ji Ne Likha Hai... Jise Khaaskar Hindu Manate Hai Lekin Gorakhpuri Ne Jis Andaaz Me Lafzon Ka Istemaal Kiya Hai Lagta Nahi Tyohaar Majhaba Ka Mohataaj Hota Hai..Agar Aapko Ye Ghazal Pasand Aaye To Please Ise Apne Doston Aur Parivaar Me Share Karein...Thanks To All


Deewali Ke Deep Jale - Firaq Gorakhpuri

नई हुई फिर रस्म पुरानी दीवाली के दीप जले

शाम सुहानी रात सुहानी दीवाली के दीप जले

Nayi Hui Phir Rasm Puraani Deewali Ke Deep Jale

Shaam Suhaani Raat Suhaani Deewali Ke Deep Jale


धरती का रस डोल रहा है दूर-दूर तक खेतों के

लहराये वो आंचल धानी दीवाली के दीप जले

Dharati Ka Ras Dol Raha Hai Door-Door Tak Kheto Me

Lahraaye Wo Aanchal Dhaani Deewali Ke Deep Jale


नर्म लबों ने ज़बानें खोलीं फिर दुनिया से कहन को

बेवतनों की राम कहानी दीवाली के दीप जले

Narm Labon Ne Kholi Phir Duniya Se Kahan Ko

Bewatano Ki Raam Kahani Deewali Ke Deep Jale


लाखों-लाखों दीपशिखाएं देती हैं चुपचाप आवाज़ें

लाख फ़साने एक कहानी दीवाली के दीप जले

Lakho-Lakho Deepshikhayein Deti Hai Chupchaap Aawajein

Lakh Fasane Ek Kahani Deewali Ke Deep Jale


निर्धन घरवालियां करेंगी आज लक्ष्मी की पूजा

यह उत्सव बेवा की कहानी दीवाली के दीप जले

Nirdhan Gharwaliyaan Karengi Aaj Laxmi Ki Pooja

Yeh Utsav Beva Ki Kahani Deewali Ke Deep Jale


लाखों आंसू में डूबा हुआ खुशहाली का त्योहार

कहता है दुःखभरी कहानी दीवाली के दीप जले

Lakho Aansu Me Duba Hua Khushahaali Ka Tyohaar

Kehata Hai Dukhbhari Kahani Deewali Ke Deep Jale


कितनी मंहगी हैं सब चीज़ें कितने सस्ते हैं आंसू

उफ़ ये गरानी ये अरजानी दीवाली के दीप जले

Kitni Mehangi Hai Sab Cheezein Kitne Saste Hai Aansu

Uff Ye Garani Ye Arjaani Deewali Ke Deep Jale


मेरे अंधेरे सूने दिल का ऐसे में कुछ हाल न पूछो

आज सखी दुनिया दीवानी दीवाली के दीप जले

Mere Andhere Soone Dil Ka ise Me Kuch Haal N Poocho

Aaj Sakhi Duniya Deewani Deewali Ke Deep Jale


तुझे खबर है आज रात को नूर की लरज़ा मौजों में

चोट उभर आई है पुरानी दीवाली के दीप जले

Tujhe Khabar Hai Aaj Raat Ko Noor Ki Larja Majon Me

Chot Ubhar Aayi Hai Puraani Deewali Ke Deep Jale


जलते चराग़ों में सज उठती भूके-नंगे भारत की

ये दुनिया जानी-पहचानी दीवाली के दीप जले

Jalte Chiraagon Me Saj Uthati Bhooke-Nange Bharat Ki

Ye Duniya Jaani-Pehchaani Deewali Ke Deep Jale


भारत की किस्मत सोती है झिलमिल-झिलमिल आंसुओं की

नील गगन ने चादर तानी दीवाली के दीप जले

Bharat Ki Kismat Soti Hai Jhilmil-Jhilmil Aansuo Ki

Neel Gagan Ne Chadar Taani Deewali Ke Deep Jale


देख रही हूं सीने में मैं दाग़े जिगर के चिराग लिये

रात की इस गंगा की रवानी दीवाली के दीप जले

Dekh Rahi Hu Seene Me Mai Daafe Jigar Ke Chiraag Liye

Raat Ki Is Ganga Ki Rawani Deewali Ke Deep Jale


जलते दीप रात के दिल में घाव लगाते जाते हैं

शब का चेहरा है नूरानी दीवाले के दीप जले

Jalte Deep Raat Ke Dil Me Ghaav Lagate Jaate Hai

Shab Ka Chehara Hai Noorani Deewali Ke Deep Jale


जुग-जुग से इस दुःखी देश में बन जाता है हर त्योहार

रंजोख़ुशी की खींचा-तानी दीवाली के दीप जले

Jug-Jug Se Is Dukhi Desh Me Ban Jaata Hai Har Tyohaar

Ranjokhushi Ki Kheecha-Taani Deewali Ke Deep Jale


रात गये जब इक-इक करके जलते दीये दम तोड़ेंगे

चमकेगी तेरे ग़म की निशानी दीवाली के दीप जले

Raat Gaye Jab Ik-Ik Karke Jalte Diye Dum Todenge

Chamkegi Tere Gum Ki Nishaani Deewali Ke Deep Jale


जलते दीयों ने मचा रखा है आज की रात ऐसा अंधेर

चमक उठी दिल की वीरानी दीवाली के दीप जले

Jalte Diyon Ne Macha Rakha Hai Aaj Ki Raat Aisa Andher

Chamak Uthi Dil Ki Viraani Deewali Ke Deep Jale


कितनी उमंगों का सीने में वक़्त ने पत्ता काट दिया

हाय ज़माने हाय जवानी दीवाली के दीप जले

Kitni Umango Ka Seene Me Wakt Ne Patta Kaat Liya

Haay Zamana Haay Jawani Deewali Ke Deep Jale


लाखों चराग़ों से सुनकर भी आह ये रात अमावस की

तूने पराई पीर न जानी दीवाली के दीप जले

Laakh Charagon Se Sunkar Bhi Aah Ye Raat Amawas Ki

Tune Parayi Peer N Jaani Deewali Ke Deep Jale


लाखों नयन-दीप जलते हैं तेरे मनाने को इस रात

ऐ किस्मत की रूठी रानी दीवाली के दीफ जले

Laakho Nayan Deep Jalte Hai Tere Manane Ko Is Raat

Ae Kismat Ki Roothi Raani Deewali Ke Deep Jale


ख़ुशहाली है शर्ते ज़िंदगी फिर क्यों दुनिया कहती है

धन-दौलत है आनी-जानी दीवाली के दीप जले

Khushhaali Hai Sharte Zindagi Phir Kyu Duniya Kehati Hai

Dhan-Daulat Hai Aani Jaani Deewali Ke Deep Jale


बरस-बरस के दिन भी कोई अशुभ बात करता है सखी

आंखों ने मेरी एक न मानी दीवाली के दीप जले

Baras-Baras Ke Din Bhi Koi Asubh Baat Karta Hai Sakhi

Aankho Ne Meri Ek N Maani Deewali Ke Deep Jale


छेड़ के साज़े निशाते चिराग़ां आज फ़िराक़ सुनाता है

ग़म की कथा ख़ुशी की ज़बानी दीवाली के दीप जले

Ched Ke Saaze Nishaate Charaga Aaj Phiraak Sunaata Hai

Gum Ki Katha Ki Zabani Deewali Ke Deep Jale


Read More - 
Deewali Ke Deep Jale - Firaq Gorakhpuri Deewali Ke Deep Jale - Firaq Gorakhpuri Reviewed by Feel neel on November 25, 2020 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.