Tadap Uthu Bhi Toh Zaalim - Ahmad Faraz Best Ghazal In Hindi


Tadapte Dil Ki Shayari - Agar Aap Ko Ahmad Faraz Ki Shayari Aur Ghazal Pasand Hai Toh Please Mere Blog Par Apna Comment Dein Aur Mere Facebook Page Ko Follow Karein Aur Roz-Roz Naye Shayari Ghazal Ka Lutf Uthayein....Dhanywaad

तड़प उठूँ भी तो ज़ालिम

तड़प उठूँ भी तो ज़ालिम तेरी दुहाई न दूँ 
मैं ज़ख़्म ज़ख़्म हूँ फिर भी तुझे दिखाई न दूँ

Tadap Uthu Bhi Toh Zaalim Teri Duhaai N Du 
Mai Zakhm-Zakhm Hoon Phir Bhi Tujhe Dikhaai N Du

तेरे बदन में धड़कने लगा हूँ दिल की तरह 
ये और बात के अब भी तुझे सुनाई न दूँ 

Tere Badan Me Dhadkane Laga Hoon Dil Ki Tarah 
Ye Aur Baat Hai K Ab Bhi Tujhe Dikhai N Du 

Tadap Uthu Bhi Toh Zaalim - Ahmad Faraz Best Ghazal In Hindi


ख़ुद अपने आपको परखा तो ये नदामत है 
के अब कभी उसे इल्ज़ाम-ए-बेवफ़ाई न दूँ 

Khud Apne Aap Ko Parkha Toh Ye Nadamat Hai 
K Ab Kabhi Use Ilzaam--E-Bewafaai N Du

मुझे भी ढूँढ कभी मह्व-ए-आईनादारी 
तेरा अक़्स हूँ लेकिन तुझे दिखाई न दूँ 

Mujhe Bhi Dhoondh Kabhi Mahm-E-Aainadaari 
Mai Tera Aks Hoon Lekin Tujhe Dikhai N Du 


तुझ पर भी न हो तुझ पर

तुझ पर भी न हो गुमान मेरा 
इतना भी कहा न मान मेरा 

Tujh Par Bhi N Ho Gumaan Mera 
Itna Bhi Kaha N Maan Mera 

मैं दुखते हुये दिलों का ईशा 
और जिस्म लहुलुहान मेरा

Mai Dukhte Hue Dilo Ka isha 
Aur Jism Lahuluhaan Mera 

कुछ रौशनी शहर को मिली 
तो जलता है जले मकान मेरा

Kuch Roshani Shehar Ko Mili 
Toh Jalta Hai Jale Makaan Mera

Tadap Uthu Bhi Toh Zaalim - Ahmad Faraz Best Ghazal In Hindi

 
ये जात ये कायनात क्या है 
तू जान मेरी जहान मेरा 

Ye Jaat Ye Kaaynaat Kya Hai 
Tu Jaan Meri Jahaan Mera

जो कुछ भी हुआ यही बहुत है 
तुझको भी रहा है ध्यान मेरा 

Jo Kuch Bhi Hua Yahi Bahut Hai 
Tujhko Bhi Raha Hai Dhyaan Mera


Read More - 


No comments:

Powered by Blogger.