Kaifi Azmi shayari In Hindi | कैफी आज़मी शायरी


Kaifi Azmi shayari In Hindi | कैफी आज़मी शायरी


 
मेरा बचपन भी साथ ले आया
गाँव से जब भी आ गया कोई

 
Mera Bachpan Bhi Sath Le Aaya
Gaon Se Jab Bhi Aa Gaya Koi

 
इतना तो ज़िंदगी में किसी के ख़लल पड़े
हँसने से हो सुकून न रोने से कल पड़े

 
Itna Toh Zinadgi Me Kisi Ke Khalal Pade
Hasne Se Ho Sukoon N Rone Se Kal Pade

 
बस्ती में अपनी हिन्दू मुसलमाँ जो बस गए
इंसाँ की शक्ल देखने को हम तरस गए

 
Basti Me Apni Hindu Musalmaan Jo Bas Gaye
Insaa Ki Shakal Dekhne Ko Hum Taras Gaye

 
बस इक झिजक है यही हाल-ए-दिल सुनाने में
कि तेरा ज़िक्र भी आएगा इस फ़साने में  

 
Bas Ik Jhijhak Hai Yahi Haal-e-Dil Sunane Me
Ki Tera Zikr Bhi Aayega Is Fasane Me

 
बहार आए तो मेरा सलाम कह देना
मुझे तो आज तलब कर लिया है सहरा ने

 
Bahaar Aaye Toh Mera Salaam Keh Dena
Mujhe Toh Aaj Talab Kar Liya Hai Sehra Ne

 
झुकी झुकी सी नज़र बे-क़रार है कि नहीं
दबा दबा सा सही दिल में प्यार है कि नहीं  

 
Jhuki - Jhuki Si Nazar Be-Karaar Hai
Daba- Daba Sa Sahi Dil Me Pyaar Hai Ki Nahi

 




 

Read More -

    Kaifi Azmi shayari In Hindi | कैफी आज़मी शायरी Kaifi Azmi shayari In Hindi | कैफी आज़मी शायरी Reviewed by Feel neel on December 12, 2020 Rating: 5

    No comments:

    Powered by Blogger.