Anwar Jalalpuri Shayari In Hindi | अनवर जलालपुरी की शायरी

 

Anwar Jalalpuri Shayari In Hindi | अनवर जलालपुरी की शायरी



कोई पूछेगा जिस दिन वाक़ई ये ज़िंदगी क्या है
ज़मीं से एक मुट्ठी ख़ाक ले कर हम उड़ा देंगे


Koi Puchega Jis Din Wakai Ye Zindagi Kya Hai

Zameen Se Ek Mutthi Khaak Lekar Ham Uda Denge

 

वो जिस को पढ़ता नहीं कोई बोलते सब हैं
जनाब-ए-'मीर' भी कैसी ज़बान छोड़ गए


Wo Jis Ko Padhta Nahi Koi Bolte Sab Hai

Janaab-e-Meer Bhi Kaisi Zabaan Chod Gaye

 

मैंने लिख्खा है उसे मर्यम ओ सीता की तरह
जिस्म को उसके अजंता नहीं लिक्खा मैंने


Maine Likkha Hai Use Maryam O Sita Ki Tarah

Jism Ko Uske Ajanta Nahi Likha


सभी के अपने मसाइल सभी की अपनी अना
पुकारूँ किस को जो दे साथ उम्र भर मेरा


Sabhi Ke Apne Masail Sabhi Ki Apni Ana

Pukarun Kis Ko Jo De Sath Umr Bhar Ka


चाहो तो मिरी आँखों को आईना बना लो
देखो तुम्हें ऐसा कोई दर्पन न मिलेगा

 

Chaho To Meri Aankho Ko Aaina Bana Lo

Dekho Tumhe Aia Darpan N Milega


मुसलसल धूप में चलना चराग़ों की तरह जलना
ये हंगामे तो मुझ को वक़्त से पहले थका देंगे


Musalsal Dhoop Me Chalna Charaagon Ki Tarah Jalna

Ye Hungaamein Toh Mujh Ko Wakt Se Pehale Thaka Denge


 

अब नाम नहीं काम का क़ाएल है ज़माना
अब नाम किसी शख़्स का रावन न मिलेगा

 

Ab Naam Nahi Kaam Ka Kayal Hai Zamana

Ab Naam Kisi Shaksh Ko Ravan N Milega


मेरा हर शेर हक़ीक़त की है ज़िंदा तस्वीर
अपने अशआर में क़िस्सा नहीं लिख्खा मैंने


Mera Har Sher Haqiqat Ki Hai Zinda

Apne Ashaar Me Kissa Nahi Likha Maine


न जाने क्यूँ अधूरी ही मुझे तस्वीर जचती है
मैं काग़ज़ हाथ में लेकर फ़क़त चेहरा बनाता हूं


N Jaane Kyo Adhoori Hi Mujhe Tasveer Jachati Hai

Mai Kagaj Hath Me Lekar Fakat Chehra Banata Hoon


01


उम्र भर जुल्फ-ए-मसाऐल यूँ ही सुलझाते रहे
दुसरों के वास्ते हम खुद को उलझाते रहे


Umr Bhar Zulf-E-Masael Yun Hi Suljhaate Rahe
Dusro Ke Vaaste Hum Khud Ko Uljhaate Rahe



हादसे उनके करीब आकर पलट जाते रहे
अपनी चादर देखकर जो पाँव फैलाते रहे


Haadse Unke Kareeb Aakar Palat Jaate Rahe
Apni Chadar Dekhkar Jo Paaw Failaate Rahe


जब सबक़ सीखा तो सीखा दुश्मनों की बज़्म से
दोस्तों में रहके अपने दिल को बहलाते रहे


Jab Sabak Sikha Toh Dushmano Ki Bazm Me
Dosto Me Rehke Apne Dil Ko Behlaate Rahe


मुस्तक़िल चलते रहे जो मंज़िलों से जा मिले
हम नजूमी ही को अपना हाथ दिखलाते रहे


Muatkil Chalte Rahe Jo Manzilo Se Ja Mile
Hum Najoomi Hi Ko Apna Hath Dikhlate Rahe


बा अमल लोगों ने मुस्तक़बिल को रौशन कर लिया
और हम माज़ी के क़िस्से रोज़ दोहराते रहे


Ba Amal Logon Ne Mustkabil Ko Roshan Kar Liya
Aur Hum Maazi Ki Kisse Roz Dohraate Rahe


जब भी तनहाई मिली हम अपने ग़म पे रो लिये
महफिलों में तो सदा हंसते रहे गाते रहे


Jab Bhi Tanhaai Mili Hum Apne Gum Pe Ro Liye
Mehfilo Me To Sada Haste Rahe Gaate Rahe


02


ख्वाहिश मुझे जीने की ज़ियादा भी नहीं है
वैसे अभी मरने का इरादा भी नहीं है


Khwahish Mujhe Jeene Ki Jyaada Nahi Hai
Vaise Abhi Marne Ka Iraada Bhi Nahi Hai


हर चेहरा किसी नक्श के मानिन्द उभर जाए
ये दिल का वरक़ इतना तो सादा भी नहीं है


Har Chehra Kisi Naksh Ke Manind Ubhar Aaye
Ye Dil Ka Warak Itna Toh Saada Bhi Nahi Hai


वह शख़्स मेरा साथ न दे पाऐगा जिसका
दिल साफ नहीं ज़ेहन कुशादा भी नहीं है


Wah Shaksh Mera Sath N De Payega Jiska
Dil Saaf Nahi Jehan Kushaada Bhi Nahi Hai


जलता है चेरागों में लहू उनकी रगों का
जिस्मों पे कोई जिनके लेबादा भी नहीं है


Jalta Hai Chiraagon Me Lahu Unki Rago Ka
Jismo Pe Koi Jinke Lebaada Bhi Nahi Hai


घबरा के नहीं इस लिए मैं लौट पड़ा हूँ
आगे कोई मंज़िल कोई जादा भी नहीं


Ghabra Ke Nahi Isliye Mai Laut Pada Hoon
Aage Koi Manzil Koi Jaada Bhi Nahi


03


क्या बतलाऊँ कितनी ज़ालिम होती है जज़्बात की आँच
होश भी ठन्डे कर देती है अक्सर एहसासात की आँच


Kya Behlaaun Kitni Zaalim Hoti Hai Zazbaat Ki Anch
Hosh Bhi Thande Kar Deti Hai Aksar Ehsasa Ki Anch


कितनी अच्छी सूरत वाले अपने चेहरे भूल गये
खाते खाते खाते खाते बरसों तक सदमात की आँच


Kitni Achchi Soorat Waale Apne Chehre Bhool Gaye
Khate,Khate,Khate,Khate Barso Tak Sadmaat Ki Anch


सोये तो सब चैन था लेकिन जागे तो बेचैनी थी
फर्क़ फ़क़त इतना ही पड़ा था तेज़ थी कुछ हालात की आँच


Soye Toh Sab Chain Tha Lekin Jaage Toh Bechaini Thi
Farq Faqat Itna Hi Pada Tha Tez Thi Kuch Halaat Ki Anch


हम से पूछो हम झुलसे हैं सावन की घनघोर घटा में
तुम क्या जानों किस शिद्दत की होती है बरसात की आँच


Hum Se Pucho Hum Jhulse Hai Sawan Ki Ghanghor
Ghata Me
Tum Kya Jaano Kis Shiddat Ki Hoti Hai Barsaat Ki Anch


दिन में पेड़ों के साए में ठंडक मिल जाती है
दिल वालों की रूह को अक्सर झुलसाती है रात की आँच


Din Me Pedo Ke Saaye Me Thandak Mil Jaati Hai
Dil Waalon Ki Rooh Ko Aksar Jhujhlaati Hai Raat Ki Anch


04


खुदगर्ज़ दुनिया में आखिर क्या करें
क्या इन्हीं लोगों से समझौता करें


Khudgarj Duniya Me Aakhir Kya Kare
Kya Inhi Logon Se Samjhauta Kare



शहर के कुछ बुत ख़फ़ा हैं इसलिये
चाहते हैं हम उन्हें सजदा करें


Shehar Ke Kuch But Khafa Isliye
Chahte Hai Hum Unhe Sazda Kare


चन्द बगुले खा रहे हैं मछलियाँ
झील के बेचारे मालिक क्या करें


Chand Bagule Kha Rahe Hai Machli yahan
Jheel Ke Bechaare Maalik Kya Kare


तोहमतें आऐंगी नादिरशाह पर
आप दिल्ली रोज़ ही लूटा करें


Tohmatein Aayengi Nadirashah Par
Aap Dilli Roz Hi Loota Kare


तजरूबा एटम का हम ने कर लिया
अहलें दुनिया अब हमें देखा करें


Tajrooba Etam Ka Humne Kar Liya
Ahle Duniya Ka Ab Hamein Dekha Kare


05


रात भर इन बन्द आँखों से भी क्या क्या देखना
देखना एक ख़्वाब और वह भी अधूरा देखना


Raat Bhar In Band Ankho Se Bhi Kya Dekhna
Dekhna Ek Khwab Aur Wah Bhi Adhura Dekhna


कुछ दिनों से एक अजब मामूल इन आँखों
कुछ आये या न आये फिर भी रस्ता देखना


Kuch Dino Se Ek Ajab Mamool In Ankho
Kuch Aaye Ya Naa Aaye Phir Bhi Rasta Dekhna


ढूंढ़ना गुलशन के फूलों में उसी की शक्ल को
चाँद के आईने में उसका ही चेहरा देखना


Dhoodhna Gulshan Ke Phoolon Me Usi Ki Shakl Ko
Chand Ke Aaine Me Uska Hi Chehra Dekhna


खुद ही तन्हाई में करना ख्वाहिशों से गुफ्तगू
और अरमानों की बरबादी को तन्हा देखना


Khud Hi Tanhaai Me Karna Khwahishon Se Guftgu
Aur Armaanon Ko Barbaadi Ko Tanha Dekhna


तिश्नगी की कौन सी मन्ज़िल है ये परवरदिगार
शाम ही से ख़्वाब में हर रोज़ दरिया देखना


Tishnagi Ki Kaun Si Manzil Hai Ye Parwardigaar
Shaam Hi Se Khwaab Me Har Roz Dariya Dekhna


06


अभी आँखों की शम्माऐं जल रही हैं प्यार ज़िन्दा है
अभी मायूस मत होना अभी बीमार ज़िन्दा है


Abhi Ankho Ki Shammayen Jal Rahi Hai Pyaar Zinda Hai
Abhi Mayoos Na Hona Abhi Beemaar Zinda Hai


हज़ारों ज़ख्म खाकर भी मैं ज़ालिम के मुक़ाबिल हूँ
खुदा का शुक्र है अब तक दिले खुद्दार ज़िन्दा है


Hazaaro Zakhm Khakar Bhi Mai Zaalim Ke Mukaabil Hoon
Khuda Ka Shukr Hai Ab Tak Dile Khuddar Zinda Hai


कोई बैयत तलब बुज़दिल को जाकर ये ख़बर कर दे
कि मैं ज़िन्दा हूँ जब तक जुर्रते इन्कार ज़िन्दा है


Koi Baiyat Talab Bujdil Ko Jakar Ye Khabar Kar De
Ki Mai Zinda Hoon Jab Tak Jurrate Inkaar Zinda Hai


सलीब-व-हिजरतो बनबास सब मेरे ही क़िस्से हैं
मेरे ख़्वाबों में अब भी आतशी गुलज़ार ज़िन्दा है


Saleeb-W-Hizraton Banbaas Sab Mere Hi Kisse Hai
Mere Khwabo Me Ab Bhi Aatshi Gulzaar Zinda Hai


यहाँ मरने का मतलब सिर्फ पैराहन बदल देना
यहाँ इस पार जो डूबे वही उस पार ज़िन्दा हैं


Yaha Marne Ka Matlab Sirf Pairhan Badal Dena
Yahan Is Paar Jo Doobe Wahi Us Paar Zinda Hai


07


दिल को जब अपने गुनाहों का ख़याल आ जायेगा
साफ़ और शफ्फ़ाफ़ आईने में बाल आ जायेगा


Dil Ko Jab Apne Gunaahon Ka Khayal Aa Jayega
Saaf Aur Shaffaf Aaine Me Baal Aa Jayega


भूल जायेंगी ये सारी क़हक़हों की आदते
तेरी खुशहाली के सर पर जब ज़वाल आ जायेगा


Bhool Jayengi Ye Saari Kehkaho Ki Aadtein
Teri Khushhaali Ke Sar Par Jab Jawaal Aa Jayega


मुश्तक़िल सुनते रहे गर दास्ताने कोह कन
बे हुनर हाथों में भी एक दिन कमाल आ जायेगा


Mustkil Sunte Rahe Gr Daastaane Koh kan
Be-Hunar Hathon Me Bhi Ek Din Kamaal Aa Jayega


ठोकरों पर ठोकरे बन जायेंगी दरसे हयात
एक दिन दीवाने में भी ऐतेदाल आ जायेगा


Thokron Par Thokrein Ban Jayengi Darse Hayaat
Ek Din Deewane Me Bhi Etedaal Aa Jayega


बहरे हाजत जो बढ़े हैं वो सिमट जायेंगे ख़ुद
जब भी उन हाथों से देने का सवाल आ जायेगा


Behre Haajat Jo Badhe Hai Wo Simat Jayenge Khud
Jab Bhi Un Hathon Se Dene Ka Sawaal Aa Jayega


08


अभी तो शाम है ऐ दिल अभी तो रात बाक़ी है
अम्मीदे वस्ल वो हिजरे यार की सौग़ात बाक़ी है


Abhi Toh Shaam Hai Ae Dil Abhi Toh Raat Baaki Hai
Umeede Vasl Wo Hizre-Yaar Ki Saugaat Baaki Hai


अभी तो मरहले दारो रसन तक भी नहीं आये
अभी तो बाज़ीये उल्फत की हर एक मात बाक़ी है


Abhi To Marhale Daaro Rasan Tak Bhi Nahi Aaye
Abhi Toh Bajiye ulfat Ki Har Ek Maat Baaki Hai


अभी तो उंगलियाँ बस काकुले से खेली हैं
तेरी ज़ुल्फ़ों से कब खेलें ये बात बाक़ी है


Abhi Toh Ungliyaan Bas Kaakule Se Kheli Hai
Teri Zulfon Se Kab Khelein Ye Baat Baaki Hai


अगर ख़ुशबू न निकले मेरे सपनों से तो क्या निकले
मेरे ख़्वाबों में अब भी तुम, तुम्हारी ज़ात बाक़ी है


Agar Khusbu N Nikle Mere Sapno Se Toh Kya Nikle
Mere Khwabon Me Ab Bhi Tum Tumhari Zaat Baaki Hai


अभी से नब्ज़े आलम रूक रही है जाने क्यों ‘अनवर’
अभी तो मेरे अफ़साने की सारी रात बाक़ी है


Abhi Se Nabze Alam Ruk Rahi Hai Jaane Kyo 'Anwar'
Abhi Toh Mere Afsaane Ki Saari Raat Baaki Hai


09


गुलों के बीच में मानिन्द ख़ार मैं भी था
फ़क़ीर ही था मगर शानदार मैं भी था


Gulon Ke Bich Manimd Khaar Mai Bhi Tha
Fakir Hi Tha Magar Shaandaar Mai Bhi Tha


मैं दिल की बात कभी मानता नहीं फिर भी
इसी के तीर का बरसों शिकार मैं भी था


Mai Dil Ki Baat Kabhi Maanta Nahi Phir Bhi
Isi Ke Teer Kaa Barson Shikaar Mai Bhi Tha


मैं सख़्त जान भी हूँ बे-नियाज़ भी लेकिन
बिछ्ड़ के उससे बहुत बेक़रार मैं भी था


Mai Sakht Jaan Bhi Hoon Be-Niyaaz Bhi Lekin
Bichad Ke Usase Bahut Bekraar Mai Bhi Tha


तू मेरे हाल पर क्यों आज तन्ज़ करता है
इसे भी सोच कभी तेरा यार मैं भी था


Tu Mere Haal Par Kyo Aaj Tanha Karta Hai
Ise Bhi Sochkar Kabhi Tera Yaar Mai Bhi Tha


ख़फ़ा तो दोनों ही एक दूसरे से थे लेकिन
निदामत उसको भी थी शर्मसार मैं भी था


Khafa Toh Dono Hi Ek Dusre Se The Lekin
Nadamat Usko Bhi Thi Sharmsaar Mai Bhi Tha


10


शादाब-ओ-शगुफ़्ता कोई गुलशन न मिलेगा
दिल ख़ुश्क रहा तो कहीं सावन न मिलेगा


Shadaab-O-Shagufta Koi Gulshan N Milega
Dil Khusk Raha To Kahi Sawan N Milega


तुम प्यार की सौग़ात लिए घर से तो निकलो
रस्ते में तुम्हें कोई भी दुश्मन न मिलेगा


Tum Pyaar Ki Saugaat Liye Ghar Se Toh Niklo
Raste Me Tumhe Koi Bhi Dushman N Milega


अब गुज़री हुई उम्र को आवाज़ न देना
अब धूल में लिपटा हुआ बचपन न मिलेगा


Ab Guzri Hui Umr Ko Awaaz N Dena
Ab Dhool Me Lipta Hua Bachpan N Milega


सोते हैं बहुत चैन से वो जिन के घरों में
मिट्टी के अलावा कोई बर्तन न मिलेगा


Sote Hai Bahut Chain Se Wo Jin Ke Gharon Me
Mitti Ke Alawa Koi Bartan N Milega


अब नाम नहीं काम का क़ाएल है ज़माना
अब नाम किसी शख़्स का रावन न मिलेगा


Ab Naam Nahi Kaam Ka Kael Hai Jamana
Ab Naam Kisi Shakhs Ka Ravan N Milega


चाहो तो मिरी आँखों को आईना बना लो
देखो तुम्हें ऐसा कोई दर्पन न मिलेगा


Chaho Toh Meri Ankho Ko Aaina Bana Lo
Dekho Tumhe Aisa Koi Darpan N Milega


11


पराया कौन है और कौन अपना सब भुला देंगे
मताए ज़िन्दगानी एक दिन हम भी लुटा देंगे


Paraaya Kaun Hai Aur Kaun Apna Sab Bhula Denge
Mataye Zindgaani Ek Din Hum Bhi Luta Denge


तुम अपने सामने की भीड़ से होकर गुज़र जाओ
कि आगे वाले तो हर गिज़ न तुम को रास्ता देंगे


Tum Apne Samne Ki Bheed Se Hokar Gujar Jaao
Ki Aage Waale To Hargiz N Tum Ko Raasta Denge


जलाये हैं दिये तो फिर हवाओ पर नज़र रखो
ये झोकें एक पल में सब चिराग़ो को बुझा देंगे


Jalaye Hai Diye Toh Phir Hawao Pr Nazar Rakho
Ye Jhonke Ek Pal Me Sab Chiraagon Ko Bujha Denge


कोई पूछेगा जिस दिन वाक़ई ये ज़िन्दगी क्या है
ज़मीं से एक मुठ्ठी ख़ाक लेकर हम उड़ा देंगे


Koi Puchega Jis Din Wakai Ye Zindgi Kya Hai
Jameen Se Ek Mutthi Khaak Lekar Hum Uda Denge


गिला,शिकवा,हसद,कीना,के तोहफे मेरी किस्मत है
मेरे अहबाब अब इससे ज़ियादा और क्या देंगे


Gila,Shikwa,Hasad,Kina, Ke Tohfe Meri Kismat Hai
Mere Ahbaab Ab Isase Jiyaada Aur Kya Denge


मुसलसल धूप में चलना चिराग़ो की तरह जलना
ये हंगामे तो मुझको वक़्त से पहले थका देंगे


Musalsal Dhoop Me Chalna Chiraagon Ki Tarah
Ye Hungaame Toh Mujhko Wakt Se Pahle Thaka Denge


अगर तुम आसमां पर जा रहे हो, शौक़ से जाओ
मेरे नक्शे क़दम आगे की मंज़िल का पता देंगे


Agar Tum Aasmaan Par Ja Rahe Ho, Shauk Se Jaao
Mere Nakshe Kadam Aage Ki Manzil Kaa Pata Denge


12


पैदा कोई राही कोई रहबर नही होता
बे हुस्न-ए-अमल कोई भी बदतर नही होता


Paida Koi Raahi Koi Rehbar Nahi Hota
Be Husn-E-Amal Koi Bhi Badtar Nahi Hota


सच बोलते रहने की जो आदत नही होती
इस तरह से ज़ख्मी ये मेरा सर नही होता


Sach Bolate Rehne Ki Jo Aadat Nhi Hoti
Is Tarah Se Zakhmi Ye Mera Sar Nahi Hota


कुछ वस्फ तो होता है दिमाग़ों दिलों में
यूँ ही कोई सुकरात व सिकन्दर नही होता


Kuch Wasf Toh Hota Hai Dimaagon Dilo Me
Yun Hi Koi Sukraat W Sikandar Nahi Hota


दुश्मन को दुआ दे के ये दुनिया को बता दो
बाहर कभी आपे से समुन्दर नही होता


Dushman Ko Dua De Ke Ye Duniya Ko Bata De
Bahar Kabhi Aape Se Samundar Nahi Hota


वह शख़्स जो खुश्बू है वह महकेगा अबद तक
वह क़ैद माहो साल के अन्दर नहीं होता


Wah Shakhs Jo Khusbu Hai Wah Mahkega Abad Tak
Wah Kaid Maaho Saal Ke Andar Nahi Hota


उन ख़ाना बदोशों का वतन सारा जहाँ है
जिन ख़ानाबदोशोँ का कोई घर नहीं होता


Un Khaana Badoshon Ka Watan Saara Jahaan Hai
Jis Khanabadosha Ka Koi Ghar Nahi Hota


13


बाल चाँदी हो गये दिल ग़म का पैकर हो गया
ज़िन्दगी में जो भी होना था वह ‘अनवर’ हो गया


Baal Chandni Ho Gaye Dil Gum Ka Paikar Ho Gaya
Zindgi Me Jo Bhi Hona Tha Wah 'Anwar' Ho Gaya


अब मुझे कल के लिए भी ग़ौर करना चाहिए
अब मेरा बेटा मेरे क़द के बराबर हो गया


Ab Mujhe Kal Ke Liye Bhi Gaur Karna Chahiye
Ab Mera Beta Mere Kad Ke Barabar Ho Gaya


क्या ज़माना है कि शाख़-ए-गुल भी है तलवार सी
फूल का क़िरदार भी अब मिस्ले खंजर हो गया


Kya Jamana Hai Ki Shakh-E-Gul Bhi Talwaar Si
Phool Ka Kirdaar Bhi Ab Misle Khanjar Ho Gaya


दिल मे उसअत जिसने पैदा की उसी के वास्ते
दश्त एक आंगन बना सेहरा भी एक घर हो गया


Dil Me Usat Jisne Paida Ki Usi Ke Vaaste
Dasht Ek Angan Bana Sehra Bhi Ek Ghar Ho Gaya


वक़्त जब बिगड़ा तो ये महसूस हमने भी किया
ज़हन व दिल का सारा सोना जैसे पत्थर हो गया


Wakt Jab Bigda Toh Ye Mehsoos Humne Bhi Kiya
Jehad W Dil Ka Saara Sona Jaise Patthar Ho Gaya


14


चाँदनी में रात भर सारा जहाँ अच्छा लगा
धूप जब फैली तो अपना ही मकाँ अच्छा लगा


Chandni Me Raat Bhar Saara Jahaan Achcha Laga
Dhoop Jabn Faili Toh Apna Hi Makaan Achcha Laga


अब तो ये एहसास भी बाक़ी नहीं है दोस्तों
किस जगह हम मुज़महिल थे और कहाँ अच्छा लगा


Ab Toh Ye Ehsaas Bhi Baaki Nahi Hai Doston
Kis Jagah Hum Muzmahil The Aur Kahan Achcha Laga


आके अब ठहरे हुये पानी से दिलचस्पी हुई
एक मुद्दत तक हमें आबे रवाँ अच्छा लगा


Aake Ab Thehre Hue Paani Se Dilachaspi Hui
Ek Muddat Tak Hame Aabe rawaan Achcha Laga


लुट गये जब रास्ते में जाके तब आँखे खुली
पहले तो एख़लाक़-ए-मीर कारवाँ अच्छा लगा


Lut Gaye Jab Raaste Me Jaake Tab Ankhe Khuli
Pehle Toh Ekhlaak-E-Meer Karwaan Achcha Laga


जब हक़ीक़त सामने आई तो हैरत में पड़े
मुद्दतों हम को भी हुस्ने दास्ताँ अच्छा लगा


Jab Haqiqat Samne Aai Toh Hairat Me Pade
Muddaton Hum Ko Bhi Husme Daastaan Achcha Laga


15


बुरे वक़्तो में तुम मुझसे न कोई राब्ता रखना
मैं घर को छोड़ने वाला हूँ अपना जी कड़ा रखना


Bure Wakton Me Tum Mujhse N Koi Raabta Rakhna
Mai Ghar Chodne Waala Hoon Apna Ji Kada Rakhna


जो बा हिम्मत हैं दुनिया बस उन्हीं का नाम लेती है
छुपा कर ज़ेहन में बरसो मेरा ये तजरूबा रखना


Jo Ba Himmat Hai Duniya Bs Unhi Ka Naam Leti Hai
Chupa Kar Jehan Me Barso Mera Ye Tazurba Rakhna


जो मेरे दोस्त हैं अकसर मैं उन लोगों से कहता हूँ
कि अपने दुश्मनों के वास्ते दिल में जगह रखना


Jo Mere Dost Hai Aksar Mai Un Logo Se Kehta Hoon
Ki Apne Dushman Ke Vaaste Dil Me Jagah Rakhna


मेरे मालिक मुझे आसनियों ने कर दिया बुज़दिल
मेरे रास्ते में अब हर गाम पर इक मरहला रखना


Mere Maalik Mujhe Aasaniyo Ne Kar Diya Bujdil
Mere Raaste Me Ab Har Gaam Par Ik Marhla Rakhna


मैं जाता हूँ मगर आँखों का सपना बन के लौटूगा
मेरी ख़ातिर कम-अज-कम दिल का दरवाज़ा खुला रखना


Mai Jaata Hoon Ankho Ka Sapna Ban Ke Pairings
Meri Khaatir Km-Az-Km Dil Ka Darwaaza Khula Rakhna


16


मैं एक शायर हूँ मेरा रुतबा नहीं किसी भी वज़ीर जैसा
मगर मेरे फ़िक्र-ओ-फ़न का फ़ैलाव तो है बर्रे सग़ीर जैसा


Mai Ek Shayar Hoon Mera Rutba Nahi Kisi Bhi Wajeer Jaisa
Magar Mere Fikr-O-Fun Ka Failaaw Toh Barre Sageer Jaisa


मैं ज़ाहरी रंगरुप से एक बार धोखा भी खा चुका हूँ
वह शख़्स था बादशाह दिल का जो लग रहा था फ़क़ीर जैसा


Mai Jahari Rang-Roop Se Ek Baar Dhokha Bhi Kha Chuka Hoon
Wah Shakhs Tha Baadshah Dil Ka Jo Lag Raha Tha Fakeer Jaisa


तुम्हें ये ज़िद है कि शायरी में तुम अपने असलाफ़ से बड़े हो
अगर ये सच है तो फिर सुना दो बस एक ही शेर मीर जैसा


Tumhe Yeh Zid Hai Ki Shayari Me Tum Apne Aslaaf Se Bade Ho
Agar Ye Sach Hai Toh Phir Suna Do Bas Ek Hi Sher Meer Jaisa


क़रीब आते ही उसकी सारी हक़ीक़तें हम पे खुल गयी हैं
हमारी नज़रो में दूर रहकर जो शख़्स लगता था पीर जैसा


Kareeb Aata Hi Uski Saari Haqiqatein Hum Pe Khul Gayi Hai
Hamari Nazron Me Door Rehkar Jo Shaksh Lagta Tha Peer Jaisa


हमारी तारीख़ के सफ़र में मुसाफ़िर ऐसा एक हुआ है
जो कारवाँ का था मीर लेकीन सफ़र में था राहगीर जैसा


Hamari Tareekh Ke Safar Me Musaafir Aisa Ek Hua Hai
Jo Karwaan Ka Tha Meer Lekin Safar Me Tha Raahgeer Jaisa


17


वह जिन लोगों का माज़ी से कोई रिश्ता नहीं होता
उन्हीं को अपने मुस्तक़बिल का अन्दाज़ा नहीं होता


Wah Jin Logon Ka Maazi Se Koi Rishta Nahi Hota
Unhi Ko Apne Mustaqbil Ka Andaaza Nahi Hota


नशीली गोलियों ने लाज रखली नौजवानों की
कि मैख़ाने जाकर अब कोई रुसवा नहीं होता


Nashili Goliyon Ne Laaz Rakhli Naujawano Ki
Ki Maikhana Jakar Ab Koi Rushwa Nahi Hota


ग़लत कामों का अब माहौल आदी हो गया शायद
किसी भी वाक़ये पर कोई हंगामा नहीं होता


Galat Kaamo Ka Ab Mahaul Aadi Ho Gaya Shayad
Kisi Bhi Wakaye Par Koi Hungama Nahi Hota


मेरी क़ीमत समझनी हो तो मेरे साथ साथ आओ
कि चौराहे पे ऐसे तो कोई सौदा नहीं होता


Meri Keemat Samjhni Ho Toh Mere Sath-Sath Aao
Ki Chauraahe Pe Aise Toh Koi Shauda Nahi Karta


इलेक्शन दूर है उर्दू से हमदर्दी भी कुछ कम है
कि बाज़ारों में अब कहीं कोई जलसा नहीं होता


Election Door Hai Urdu Se Humdardi Bhi Kuch Kam Hai
Ki Bazaron Me Ab Kahi Koi Jalsa Nahi Hota


18


ख़राब लोगों से भी रस्म व राह रखते थे
पुराने लोग ग़ज़ब की निगाह रखते थे


Kharaab Logon Se Bhi Rasm-O-Raah Rakhte The
Purane Log Gajab Ki Nigaah Rakhte The


ये और बात कि करते थे न गुनाह मगर
गुनाहगारों से मिलने की चाह रखते थे


Ye Aur Baat Ki Karte The N Gunaah Magar
Gunahgaaron Se Milne Ki Chaah Rakhte The


वह बादशाह भी साँसों की जंग हार गये
जो अपने गिर्द हमेशा सिपाह रखते थे


Wah Baadshah Bhi Sanso Ki Jung Haar Jaaye
Jo Apne Gird Hamesha Sipaah Rakhte The


हमारे शेरों पे होती थी वाह वाह बहुत
हम अपने सीने में जब दर्द-ओ-आह रखते थे


Hamare Sheron Pe Hoti Thi Waah-Waah Bahut
Hum Apne Seene Me Jab Dard-O-Aah Rakhte The


बरहना सर हैं मगर एक वक़्त वो भी था
हम अपने सर पे भी ज़र्रीं कुलाह रखते थे


Barhana Sar Hai Magar Ek Wakt Wo Bhi Tha
Hum Apne Sar Pe Bhi Zareen Kulaah Rakhte The


19


ज़ुल्फ़ को अब्र का टुकड़ा नहीं लिख्खा मैंने
आज तक कोई क़सीदा नहीं लिख्खा मैंने


Zulf Ko Abr Ka Tukda Nahi Likkha Maine
Aaj Tak Koi Kaseeda Nahi Likkha Maine


जब मुख़ातब किया क़ातिल को तो क़ातिल लिख्खा
लखनवी बन के मसीहा नहीं लिख्खा मैंने


Jab Mukhatab Kiya Qaatil Ko Toh Qaatil Likkha
Lakhnawi Ban Ke Maseeha Nahi Likkha Maine


मैंने लिख्खा है उसे मर्यम ओ सीता की तरह
जिस्म को उस के अजन्ता नहीं लिख्खा मैंने


Maine Likkha Hai Use Maryam O Sita Ki Tarah
Jism Ko Uske Ajanta Nahi Likkha Maine


कभी नक़्क़ाश बताया कभी मेमार कहा
दस्त-फ़नकार को कासा नहीं लिख्खा मैंने


Kabhi Nakkash Bataya Kabhi Memaar Kaha
Dast-Fankaar Ko Kaasa Nahi Likkha Maine


तू मिरे पास था या तेरी पुरानी यादें
कोई इक शेर भी तन्हा नहीं लिख्खा मैंने


Tu Mere Pass Tha Ya Teri Puraani Yadein
Koi Ek Sher Bhi Tanha Nahi Likkha Maine


नींद टूटी कि ये ज़ालिम मुझे मिल जाती है
ज़िन्दगी को कभी सपना नहीं लिख्खा मैंने


Nind Tooti Ki Ye Zaalim Mujhe Mil Jaati Hai
Zindgi Ko Kabhi Sapna Nahi Likkha Maine


मेरा हर शेर हक़ीक़त की है ज़िन्दा तस्वीर
अपने अशआर में क़िस्सा नहीं लिख्खा मैंने


Mera Har Sher Haqiqat Ki Hai Zinda Tasveer
Apne Asaar Me Kissa Nahi Likkha Maine


20


उससे बिछड़ के दिल का अजब माजरा रहा
हर वक्त उसकी याद रही तज़किरा रहा


चाहत पे उसकी ग़ैर तो ख़ामोश थे मगर
यारों के दर्म्यान बड़ा फ़ासला रहा


मौसम के साअथ सारे मनाज़िर बदल गये
लेकिन ये दिल का ज़ख़्म हरा था हरा रहा


लड़कों ने होस्टल में फ़क़त नाविलें पढ़ीं
दीवान-ए-मीर ताक़ के ऊपर धरा रहा


वो भी तो आज मेरे हरीफ़ों से जा मिले
जिसकी तरफ़ से मुझको बड़ा आसरा रहा


सड़कों पे आके वो भी मक़ासिद में बँट गए
कमरों में जिनके बीच बड़ा मशविरा रहा


21


कारोबार-ए-ज़ीस्त में तबतक कोई घाटा न था
जब तलक ग़म के इलावा कोई सरमाया न था


मैं भी हर उलझन से पा सकता था छुटकरा मगर
मेरे गमख़ाने में में कोई चोर दरवाज़ा न था


कर दिया था उसको इस माहौल ने ख़ानाबदोश
ख़ानदानी तौर पर वह शख़्स बनजारा न था


शहर में अब हादसों के लोग आदी हो गये
एक जगह एक लाश थी और कोई हंगामा न था


दुश्मनी और दोस्ती पहले होती थी मगर
इस क़दर माहौल का माहौल ज़हरीला न था


पहले इक सूरत में कट जाती थी सारी ज़िन्दगी
कोई कैसा हो किसी के पास दो चेहरा न था


22


कभी फूलों कभी खारों से बचना
सभी मश्कूक़ किरदारों से बचना


हरीफ़ों से भी मिलना गाहे गाहे
जहाँ तक हो सके यारों से बचना


जो मज़हब ओढ़कर बाज़ार निकलें
हमेशा उन अदाकारों से बचना


ग़रीबों में वफ़ा ह उनसे मिलना
मगर बेरहम ज़रदारों से बचना


हसद भी एक बीमारी है प्यारे
हमेशा ऐसे बीमारों से बचना


मिलें नाक़िद करना उनकी इज़्ज़त
मगर अपने परस्तारों से बचना


23


मैं जा रहा हूँ मेरा इन्तेज़ार मत करना
मेरे लिये कभी भी दिल सोगवार मत करना


मेरी जुदाई तेरे दिल की आज़माइश है
इस आइने को कभी शर्मसार मत करना


फ़क़ीर बन के मिले इस अहद के रावण
मेरे ख़याल की रेखा को पार मत करना


ज़माने वाले बज़ाहिर तो सबके हैं हमदर्द
ज़माने वालों का तुम ऐतबार मत करना


ख़रीद देना खिलौने तमाम बच्चों को
तुम उन पे मेरा आश्कार मत करना


मैं एक रोज़ बहरहाल लौट आऊँगा
तुम उँगुलियों पे मगर दिन शुमार मत करना


24


मेरी बस्ती के लोगो! अब न रोको रास्ता मेरा
मैं सब कुछ छोड़कर जाता हूँ देखो हौसला मेरा


मैं ख़ुदग़र्ज़ों की ऐसी भीड़ में अब जी नहीं सकता
मेरे जाने के फ़ौरन बाद पढ़ना फ़ातेहा मेरा


मैं अपने वक़्त का कोई पयम्बर तो नहीं लेकिन
मैं जैसे जी रहा हूँ इसको समझो मोजिज़ा मेरा


वो इक फल था जो अपने तोड़ने वाले से बोल उठा
अब आये हो! कहाँ थे ख़त्म है अब ज़ायक़ा मेरा


अदालत तो नहीं हाँ वक़्त देता है सज़ा सबको
यही है आज तक इस ज़िन्दगी मे तजुरबा मेरा


मैं दुनिया को समझने के लिये क्या कुछ नहीं करता
बुरे लोगों से भी रहता है अक्सर राब्ता मेरा


25


पराया कौन है और कौन अपना सब भुला देंगे
मता-ए-ज़िंदगानी एक दिन हम भी लुटा देंगे


तुम अपने सामने की भीड़ से हो कर गुज़र जाओ
कि आगे वाले तो हरगिज़ न तुम को रास्ता देंगे


जलाए हैं दिए तो फिर हवाओं पर नज़र रक्खो
ये झोंके एक पल में सब चराग़ों को बुझा देंगे


कोई पूछेगा जिस दिन वाक़ई ये ज़िंदगी क्या है
ज़मीं से एक मुट्ठी ख़ाक ले कर हम उड़ा देंगे


गिला शिकवा हसद कीना के तोहफ़े मेरी क़िस्मत हैं
मिरे अहबाब अब इस से ज़ियादा और क्या देंगे


मुसलसल धूप में चलना चराग़ों की तरह जलना
ये हंगामे तो मुझ को वक़्त से पहले थका देंगे


अगर तुम आसमाँ पर जा रहे हो शौक़ से जाओ
मिरे नक़्श-ए-क़दम आगे की मंज़िल का पता देंगे





Read More -

    Anwar Jalalpuri Shayari In Hindi | अनवर जलालपुरी की शायरी Anwar Jalalpuri Shayari In Hindi | अनवर जलालपुरी की शायरी Reviewed by Feel neel on November 25, 2019 Rating: 5

    2 comments:

    Powered by Blogger.