Rahat Indori Shayari In Hindi | राहत इन्दौरी की शायरी


Rahat Indori Shayari In Hindi | राहत इन्दौरी की शायरी

 

Rahat Indori Brief Intro - Rahat Indori is an Indian Bollywood lyricist and Urdu language poet. He is also a former professor of Urdu language and a painter.


 

बोतलें खोल कर तो पी बरसों
आज दिल खोल कर भी पी जाए


Botle Khol Kar To Pi Barso
Aaj Dil Khol Kar Bhi Pi Jao


न हम-सफ़र न किसी हम-नशीं से निकलेगा
हमारे पाँव का काँटा हमीं से निकलेगा


N Humsafar N Kisi Humnashi Se Niklega
Hamare Paaw Ka Kanta Hami Se Niklega


दोस्ती जब किसी से की जाए
दुश्मनों की भी राय ली जाए


Dosti Jab Kisi Se Ki Jaye
Dushmano Ki Bhi Ray Li Jaye


आँख में पानी रखो होंटों पे चिंगारी रखो
ज़िंदा रहना है तो तरकीबें बहुत सारी रखो


Ankh Me Paani Rakho Hotho Pe Chingaari Rakho
Zinda Rehna Hai To Tarkibe Bahut Saari Rakho


 

घर के बाहर ढूँढता रहता हूँ दुनिया
घर के अंदर दुनिया-दारी रहती है


Ghar Ke Bahar Dhoondhta Rehta Hoon duniya
Ghar Ke Andar Duniyadari Rehti Hai



ये हवाएँ उड़ न जाएँ ले के काग़ज़ का बदन
दोस्तो मुझ पर कोई पत्थर ज़रा भारी रखो


Ye Hawaye Ud N Jaaye Leke Kagaz Ka Badan
Dosto Mujh Par Koi Patthar Zara Bhari Rakho



 

Rahat Indori Best Shayari

 

एक ही नदी के हैं ये दो किनारे दोस्तो
दोस्ताना ज़िंदगी से मौत से यारी रखो

 

Ek Hi Nadi Ke Hai Ye Do Kinare Dosto
Dostana Zindgi Se Maut Se Yaari Rakho



मेरी ख़्वाहिश है कि आँगन में न दीवार उठे
मिरे भाई मिरे हिस्से की ज़मीं तू रख ले


Meri Khwahish Hai Ki Angan Me N Deewar Uthe
Mere Bhai Mere Hisse Ki Jameen Tu Rakh Le


बहुत ग़ुरूर है दरिया को अपने होने पर
जो मेरी प्यास से उलझे तो धज्जियाँ उड़ जाएँ


Bahut Guroor Hai Dariya Ko Apne Hone Par
Jo Meri Pyaas Se Uljhe To Dhajjiya Ud Jaye



हम से पहले भी मुसाफ़िर कई गुज़रे होंगे
कम से कम राह के पत्थर तो हटाते जाते


Hum Se Pehle Bhi Musafir Kai Gujre Honge
Km Se Km Raah Ke Patthar Toh Hatate Jaate


रोज़ तारों को नुमाइश में ख़लल पड़ता है
चाँद पागल है अँधेरे में निकल पड़ता है


Roz Taaron Ko Numaish Me Khalal Padta Hai
Chand Pagal Hai Andhere Me Nikl Padta Hai


बीमार को मरज़ की दवा देनी चाहिए
मैं पीना चाहता हूँ पिला देनी चाहिए


Beemaar ko Maraz Ki Dawa Deni Chahiye
Mai Peena Chahta Hoon Pila Deni Chaiye


नए किरदार आते जा रहे हैं
मगर नाटक पुराना चल रहा है


Naye Kirdaar Aate Jaa Rahe Hai
Magar Natak Puraana Chal Raha Hai



 

Rahat Indori Ki Shayari


बुलाती है.... मगर जाने का नई,
ये दुनिया है.... इधर जाने का नई


Bulaati Hai Magar Jaane Ka Nayi


Ye Duniya Hai Idhar Jaane Ka Nayi



 

उंगलियाँ यूँ न सब पे उठाया करो
ख़र्च करने से पहले कमाया करो



 

Ungaliyaa Yun N Sab Pe Uthaya Karo


Kharch Karne Se Pehale Kamaya Karo



 

शहरों में बारूदों का मौसम है
गांव चलो ये अमरूदों का मौसम है



 

Sheharon Me Baroodon Ka Mausam Hai


Gaon Chalo Ye Amrodon Ka Mausam Hai



 

इसे तूफां ही किनारे से लगा देते हैं
मेरी कश्ती किसी पतवार की मोहताज नहीं



 

Ise Toofan Hi Kinaare Se Laga Dete Hai


Meri Kashti Kisi Patwaar Ki Mohtaaz Nahi



 

राज़ जो कुछ हो इशारों में बता भी देना
हाथ जब उनसे मिलना थोड़ा दबा भी देना



 

Raaz Jo Kuch Ho Ishaaron Me Bata Bhi Dena


Hath Jab Unse Milaana Thoda Daba Bhi Dena



 

समन्दरों में मुआफ़िक़ हवा चलाता है
जहाज़ ख़ुद नहीं चलते, ख़ुदा चलाता है



 

Samandaron Se Muafik Hawa Chalaat Hai


Jahaj Khud Nahi Chalte, Khuda Chalaat Hai



 

सूरज सितारे चाँद मेरे साथ में रहे
जब तक तुम्हारे हाथ मेरे हाथ में रहे



 

Sooraj Sitaare Chand Mere Sath Rahe


Jab Tak Tumhare Hath Mere Hath Me Rahe



 

आँसुओं और शराबों में गुज़र है अब तो
मैंने कब देखी थी बरसात मुझे होश नहीं



 

Aansuo Aur Sharabon Me Guzar Hai Ab Toh


Maine Kab Dekhi Thi Barsaat Mujhe Hosh Nahi



 

Dr Rahat Indori Shayari


 

हमारे पीर, तक़ी मीर ने कहा था कभी
मियाँ ये आशिक़ी इज़्ज़त बिगाड़ देती है



 

Hamare Peer, Taki Meer Ne The Kaha Tha Kabhi


Miya Ye Aashiqi Ijjat Bigaad Deti Hai



 

अभी इन्हें ना परिशां करो मसीहाओं
मरीज़ उलझे हुए हैं दवा बनाने में



 

Abhi Inhe Na Parishaa Karo Maseehao


Mareez Uljhe Hue Hai Dawa Banane Me



 

आग के पास कभी मोम को लाकर देखूं
हो इजाज़त तो तुझे हाथ लगाकर देखूं



 

Aag Ke Pass Kabhi Mom Ko Lakar Dekhu


Ho Ijajat Toh Tujhe Hath Lagakar Dekhu



 

चोर उचक्कों की करो कद्र के मालूम नहीं
कौन कब कौन सी सरकार में आ जाएगा



 

Chor Uchakko Ki Karo Kadr Ke Maloom Nahi


Kaun Kab Kaun Si Sarkaar Me Aa Jayega



 

मौसम की मनमानी है आँखों-आँखों पानी है
साया-साया लिख डालो दुनिया धूप कहानी है



 

Mausam Ki Manmaani Hai Aankho Aankho Me Paani Hai


Saaya-Saaya Likh Daalo Duniya Dhoop Kahani Hai



 

रात की धड़कन जब तक जारी रहती है
सोते नहीं हम, ज़िम्मेदारी रहती है



 

Raat Ki Dhadkan Jab Tak Jaari Hai


Sote Nahi Hum, Jimmedaari Rehati Hai



 

जो तौर है दुनिया का उसी तौर से बोलो
बहरों का इलाक़ा है ज़रा ज़ोर से बोलो



 

Jo Taur Hai Duniya Ka Usi Taur Se Bolo


Bahron Ka Ilaaka Hai Zara Jor Se Bolo



 

बिखर बिखर सी गई है किताब साँसों की
ये काग़ज़ात ख़ुदा जाने कब कहाँ उड़ जायें



 

Bikhar-Bikhar Si Gayi Hai Kitaab Sanso Ki


Ye Kaagzaat Khuda Jaane Kab Kahan Uda Jaaye



 

मैंने शाहों की मोहब्बत का भरम तोड़ दिया
मेरे कमरे में भी एक ताज महल रखा है



 

Maine Shaho Ki Mohabbat Ka Bharam Tod Diya


Maine Kamre Me Taajmahal Rakha Hai



 

बारिशों से तो प्यास बुझती नहीं
आइए ज़हर पी के देखते हैं



 

Barishon Se Toh Pyaas Bujhti Nahi


Aaiye Zehar Pee Ke Dekhte Hai



 

सलिक़ा जिनको सिखाया था हमने चलने का
वो लोग आज हमें दायें-बायें करने लगे



 

Saleeka Jinko Sikhaya Tha Hamne Chalne Ka


Wo Log Aaj Hamein Daaye-Baaye Karne Lage



 

फूँक डालूँगा किसी रोज़ ये दिल की दुनिया
ये तेरे ख़त तो नहीं है कि जला भी न सकूँ



 

Phoonk Dalunga Kisi Roz Ye Dil Ki Duniya


Ye Tere Khat Toh Nahi Hai Ki Jala Bhi N Saku



 

मुन्तज़िर हूँ के सितारों की ज़रा आँख लगे
चाँद को छत पे बुला लूँगा इशारा करके



 

Muntazir Hu Ke Sitaaron Ki Zara Aankh Lage


Chand Ko Chat Pe Bula Lunga Ishara Karke



 

आसमानों से भी ऊंचा मेरा सर लगता है,
ये मेरी माँ की दुआओं का असर लगता है



 

Aasmaano Se Bhu Uncha Mera Sar Lagta Hai


Ye Meri Maa Ki Duaao Ka Asar Lagta Hai



 

अंधेरे चारों तरफ सायं सायं करने लगे
चिराग़ हाथ उठा कर दुआएँ करने लगे



 

Andhere Charo Taraf Saay-Saay Karne Lage


Chiraag Hath Utha Kar Duaaye Dene Lage



 

आज हम दोनों को फ़ुर्सत है चलो इश्क़ करें
इश्क़ दोनों की ज़रूरत है चलो इश्क़ करें



 

Aaj Hum Dono Ko Fursat Hai Chalo Ishq Kare


Ishq Dono Ki Jarurat Hai Chalo Ishq Kare



 

Rahat Indori Shayari In Hindi Font


 

जागने की भी जगाने की भी आदत हो जाए
काश तुझको किसी शायर से मोहब्बत हो जाए



 

Jaagne Ki Bhi Jaagne Ki Bhi Afat Ho Jaaye


Kash Tujhko Kisi Se Shayar Se Mohabbat Ho Jaaye



 

हाथ खाली हैं तेरे शहर से जाते-जाते
जान होती तो मेरी जान लुटाते जाते



 

Hath Khaali Hai Tere Shehar Jaate-Jaate


Jaan Hoti Toh Meri Jaan Lutaate Jaate



 

लफ्ज़ गूंगे हो चुके तहरीर अंधी हो चुकी
जितने मुखबिर थे वो अख़बारों के मालिक हो गये



 

Lafz Goonge Ho Chuke Tahreer Aandhi Ho Chuki


Jitne Mukhbir The Wo Akhbaaron Ke Maalik Ho Gaye



 

ज़ुबाँ तो खोल, नज़र तो मिला, जवाब तो दे
मैं कितनी बार लुटा हूँ मुझे हिसाब तो दे



 

Zubaa Toh Khol, Nazar Toh Mila, Jawaab Toh De


Mai Kitni Baar Luta Honn Mujhe Hisaab Toh De



 

सब प्यासे हैं सबका अपना ज़रिया है, बढ़िया है
हर कुल्हड़ में छोटा-मोटा दरिया है, बढ़िया है



 

Sab Pyaase Hai Sabka Apna Jariya Hai


Har Kullhad Me Chota-Mota Dariya Hai, Badhiya Hai



 

कोई आँगन है दरीचा है ना गुलदान ना फूल
लोग दीवारें उठा लेने को घर जानते हैं



 

Koi Angan Hai Dareecha Hai Na Guldaan Na Phool


Log Deewarein Utha Lene Ko Ghar Jante Hai



 

ये सानेहा तो किसी दिन गुज़रने वाला था
मैं बच भी जाता तो इक रोज़ मरने वाला था



 

Ye Saaneha Toh Kisi Din Gujarne Waala Tha


Mai Bach Bhi Jaata Toh Ik Roz Marne Waala Tha



 

Rahat Indori Love Shayari


 

ये कैंचियाँ हमें उड़ने से ख़ाक रोकेंगी
के हम परों से नहीं हौसलों से उड़ते हैं



 

Ye Kainchiya Hamein Udne Se Khaak Rokengi


Ke Ham Paron Se Nahi Hausalo Se Udte Hai



 

शाख़ों से टूट जाएँ वो पत्ते नहीं हैं हम
आँधी से कोई कह दे कि औक़ात में रहे



 

Shaakho Se Toot Jaayein Wo Patte Nahi Hai Hum


Aandhi Se Koi Keh De Ki Aaukaat Me Rahe



 

अब ना मैं हूँ, ना बाकी हैं ज़माने मेरे​,
फिर भी मशहूर हैं शहरों में फ़साने मेरे​



 

Ab Na Mai Hoon, Na Baaki Hai Zamane Mere


Phir Bhi Mashahoor Hai Sheharon Me Fasane Mere



 

Shayari By Rahat Indori


 

ऐसी सर्दी है कि सूरज भी दुहाई मांगे
जो हो परदेस में वो किससे रज़ाई मांगे



 

Aisi Sardi Hai Ki Sooraj Bhi Duhaai Maange


Jo Ho Pardesh Me Wo Kisase Rajaai Maange



 

ज़िन्दगी नाम को हमारी है,
आखरी सांस भी तुम्हारी है



 

Zindagi Naam Ko Hamari Hai


Aakhiri Sans Bhi Tumhari Hai



 

ये ज़िन्दगी किसी गूंगे का ख़्वाब है बेटा
संभल के चलना के रस्ता ख़राब है बेटा



 

Ye Zindagi Kisi Goonge Ka Khwaab Hai Beta


Sambhal Ke Chalna Ke Rasta Kharaab Hai Beta



 

मेरे अधूरे शेर में थी कुछ कमी मगर
तुम मुस्कुरा दिए तो मुझे दाद मिल गयी



 

Mere Adhhore Sher Me Thi Kuch Kami Magar


Tum Muskura Diye Toh Mujhe Daad Mil Gayi



 

ज़रूरी काम है लेकिन रोज़ाना भूल जाता हूँ,
मुझे तुम से मोहब्बत है बताना भूल जाता हूँ



 

Zaruri Kaam Hai Lekin Rizana Bhool Jaata Hoon


Mujhe Tumse Mohabbat Hai Batana Bhool Jaata Hai



 




 

Read More - 
     
    Rahat Indori Shayari In Hindi | राहत इन्दौरी की शायरी Rahat Indori Shayari In Hindi | राहत इन्दौरी की शायरी Reviewed by Feel neel on December 22, 2019 Rating: 5

    No comments:

    Powered by Blogger.