Barish Shayari In Hindi | बारिश शायरी

 

Barish Shayari In Hindi | बारिश शायरी


बादलों से कह दो, जरा सोच समझ के बरसे,
अगर हमें उसकी याद आ गई, तो मुकाबला बराबरी का होगा
 
Baadalon Se Keh Do Zara Soch Samajh Ke Barse

Agar Hamein Uski Yaad Aa Gayi Toh Muqabala Barabari Ka Hoga
 
रहने दो कि अब तुम भी मुझे पढ़ न सकोगे,
बरसात में काग़ज़ की तरह भीग गया हूँ मैं
 
Rehno Do Ki Ab Tum Bhi Mujhe Padh N Sakoge

Barsaat Me Kagaz Ki Tarah Bheeg Gaya Hoon Mai
 
दूर तक छाए थे बादल और कहीं साया न था
इस तरह बरसात का मौसम कभी आया न था -क़तील शिफ़ाई
 
Door Tak Chaaye The Badal Aur Kahin Saaya N Tha

Is Tarah Barsaat Ka Mausam Kabhio Aaya N Tha- Qteel Shifaai
 

Shayari On Barish

 
कहीं फिसल न जाओ जरा संभल के चलना
मौसम बारिस का भी है और मोहब्बत का भी
 
Kahin Fisal N Jaao Zara Sambhal Ke Chalna

Mausam Barish Ka Bhi Hai Aur Mohabbat Ka Bhi
 
धूप ने गुज़ारिश की
एक बूँद बारिश की -मोहम्मद अल्वी
 
Dhoop Ne Guzarish Ki

Ek Boond Barish Ki - Mohammad Alvi
 
बारिश की बूँदों में झलकती है तस्वीर उनकी और
हम उनसे मिलनें की चाहत में भीग जाते हैं
 
Barish Ki Boondo Me Jhalakti Hai Tasveer Unki Aur

Hum Unse Milne Ki Chahat Me Bheeg Jaate Hai

Barish Shayari In Hindi | बारिश शायरी


जरूर बादलों का दिल दुखा होगा

वरना इतनी शिद्दत से रोता कौन है
 
Zarur Badalon Ka Dil Dukha Hoga

Warna Itni Shiddat Se Rota Kaun Hai
 
नसीब की बारिश कुछ इस तरह से होती रही मुझ पे

ख्वाहिशे सुखती रही और पलके भीगती रही
 
Naseeb Ki Barish Kuch Is Tarah Se Hoti Rahi Mujhpe

Khwahishe Sookhati Rahi Aur Palake Bheegati Rahi
 
याद आई वो पहली बारिश
जब तुझे एक नज़र देखा था -नासिर काज़मी
 
Yaad Aayi Wo Pehali Barish

Jab Tujhe Ek Nazar Dekha Tha -Nassir Kazami
 
हमारे शहर आ जाओ सदा बरसात रहती है

कभी बादल बरसते है...कभी आँखे बरसती है
 
Hamare Shehar Aa Jaao Sada Barsaat Rehati Hai

Kabhi Badal Baraste Hai...Kabhi Aankhe Barasti Hai
 

Barish Shayari Romantic In Hindi


अब भी बरसात की रातों में बदन टूटता है
जाग उठती हैं अजब ख़्वाहिशें अंगड़ाई की -परवीन शाकिर
 
Ab Bhi Barsaat Ki Raaton Ne Badan Tootata Hai

Jaag Uthati Hai Azab Khwahishe Angdaai Ki - Parveen Shaki
 
कच्ची मिट्टी का बना होता है उम्मीदों का घर 
ढह जाता है हकीकत की बारिश में अक्सर 
 
Kachchi Mitti Ka Bana Hota Hai Ummidon Ka Ghar

Dhah Jaata Hai Haqiqat Ki Barish Me Aksar
 
कहीं फिसल न जाऊं तेरे ख्यालों में चलते चलते
अपनी यादों को रोको मेरे शहर में बारिश हो रही है
 
Kahin Fisal N Jaun Tere Khayalon Me Chalte-Chalte

Apni Yaadon Ko Roko Mere Shehar Me Barish Ho Rahi Hai
 

Barish Shayari Images


अजब लुत्फ़ का मंज़र देखता रहता हूँ बारिश में
बदन जलता है और मैं भीगता रहता हूँ बारिश में
 
Ajab Lutf Ka Manjar Derkhta Rehta Hoon Barish Me

Badan Jalata Hai Aur Mai Bheegata Rehta Hoon Barish Me
 
हम तो समझे थे कि बरसात में बरसेगी शराब
आई बरसात तो बरसात ने दिल तोड़ दिया -सुदर्शन फ़ाख़िर
 
Hum Toh Samajhe The Ki Barsaat Me Barsegi Sharaab

Aayi Barsaat Toh Barsaat Ne Dil Tod Diya
 

Barish Shayari 2 Line

 
अगर भीगने का इतना ही शोक है बारिश में,
तो देखो न मेरी आखों में
 
Agar Bheegane Ka Itna Hi Shauk Hai Barish Me

Toh Dekho N Meri Aankho Me
 
ज़रा ठहरो के बारिश है यह थम जाए तो फिर जाना
किसी का तुझ को छु लेना मुझे अच्छा नहीं लगता
 
Zara Theharo Ke Barish Hai Yeh Tham Jaaye Toh Phir Jaana

Kisi Ka Tujh Ko Choo Lena Mujhe Achcha Nahi Lagata
 

barish wallpaper with shayari

 
बारिश और मोहब्बत दोनों ही यादगार होते हे,
बारिश में जिस्म भीगता हैं और मोहब्बत मैं आँखे
 
Barish Aur Mohabbat Dono Hi Yaadgaar Hote Hai

Barish Me Jism Bheegata Hai Aur Mohabbat Me Aankhe
 
कच्चे मकान जितने थे बारिश में बह गए
वर्ना जो मेरा दुख था वो दुख उम्र भर का था -अख़्तर होशियारपुरी
 
Kachche Makaan Jitane The Barish Me Beh Gaye

Warna Jo Mera Dukh Tha Wo Dukh Mera Umr Bhar Ka Tha- Akhtar Hosiyaarpuri
 

Barish Shayari In Hindi Font

 
किस मुँह से इल्ज़ाम लगाएं बारिश की बौछारों पर,
हमने ख़ुद तस्वीर बनाई थी मिट्टी की दीवारों पर
 
Kis Muh Se Ilzaam Lagaye Barish Ki Bauchaaron Par

Hamne Khud Tasveer Banaai Thi Mitti Ki Deewaron Par
 

Romantic Barish Shayari For Girlfriend


गर मेरी चाहतों के मुताबिक जमाने की हर बात होती
तो बस मैं होता तुम होती और सारी रात बरसात होती
 
Gr Meri Chahaton Ke Mutaabik Zamane Ki Har Baat Hoti

Toh Bas Mai Hota Tum Hoti Aur Saari Raat Barsaat Hoti
 
पहले रिम-झिम फिर बरसात और अचानक कडी धूप,
मोहब्बत ओर अगस्त की फितरत एक सी है
 
Pehale Rim-Jhim Phir Barsaat Aur Achanak Kadi Dhoop

Mohabbat Aur August Ki Fitrat Ek Si Hai
 
बरस रही थी बारिश बाहर
और वो भीग रहा था मुझ में -नज़ीर क़ैसर
 
Baras Rahi Thi Barish Bahar

Aur Wo Bheeg Raha Tha Mujhme- Nazeer Kaisar



Read More -
    Barish Shayari In Hindi | बारिश शायरी Barish Shayari In Hindi | बारिश शायरी Reviewed by Feel neel on January 20, 2020 Rating: 5

    4 comments:

    Powered by Blogger.