Gam Bhari Shayari In Hindi | ग़म शायरी

 

Gam Bhari Shayari In Hindi | ग़म शायरी


क्या कहूँ किस तरह से जीता हूँ
ग़म को खाता हूँ आँसू पीता हूँ -मीर असर
 
Kya Jahun Kis Tarah Se Jeeta Hoon

Gum Ko Khaata Hoon Aansu Peeta Hu -Mir Asar
 
अगर मोहब्बत की हद नहीं कोई,
तो दर्द का हिसाब क्यूँ रखूं
 
Agar Mohabbat Ki Had Nahi Hoti

Toh Dard Ka Hisaab Kyu Rakhu
 
दोनों जहाँ तेरी मोहब्बत में हार के,
वो जा रहा है कोई शब्-ए-गम गुजर के -फ़ैज़ अहमद फ़ैज़
 
Dono Jahan Teri Mohabbat Me Haar Ke

Wo Ja Raha Hai Koi Shab-e-Gum Guzaar Ke -Faiz Ahmad Faiz
 

Gam Bhari Shayari Hindi Mai


दिल ना-उमीद तो नहीं नाकाम ही तो है
लम्बी है ग़म की शाम मगर शाम ही तो है -फ़ैज़ अहमद फ़ैज़
 
Dil-Na-Umeed Toh Nahi Nakaam Hi Toh Hai

Lambi Hai Gum Ki Shaam Magar Shaam Hi Toh Hai -Faiz Ahmad Faiz
 
तुमने भी हमें बस एक दीये की तरह समझा,
रात हुई तो जला दिया सुबह हुई तो बुझा दिया
 
Tumne Bhi Hamein Bas Ek Diye Ki Tarah Samjha

Raat Hui Toh Jala Diya Subah Hui Toh Bujha Diya
 
ज़िंदगी दी हिसाब से उस ने
और ग़म बे-हिसाब लिक्खा है -एजाज़ अंसारी
 
Zindagi Di Hisaab Se Us Ne

Aur Gum Be-Hisaab Likkha Hai-Azaaz Ansari
 

Hindi Shayari Gam Bhari


कर रहा था ग़म-ए-जहाँ का हिसाब
आज तुम याद बे-हिसाब आए-फ़ैज़ अहमद फ़ैज़
 
Kar Raha Tha Gum-a-Jahan Ka Hisaab

Aaj Tum Yaad Be-Hisaab Aaye -Faiz Ahmad Faiz
 
एक वो हैं कि जिन्हें उनकी ख़ुशी ले डूबी,
एक हम हैं कि जिन्हें ग़म ने उबरने न दिया
 
Ek Wo Hai Ki Jinhe Unki Khushi Le Doobi

Ek Hum Hai Ki Jinhe Gum Ne Ubarne N Diya
 
ये किस मक़ाम पे लाई है ज़िंदगी हम को
हँसी लबों पे है सीने में ग़म का दफ़्तर है -हफ़ीज़ बनारसी
 
Ye Kis Makaam Pe Layi Hai Zindagi Hum Ko

Hasi Labon Pe Hai Seene Me Gum Ka Daftar Hai -Hafeez Banarasi
 

Gam Bhari Shayari In Hindi | ग़म शायरी

 
इलाही उनके हिस्से का भी गम मुझको अता कर दे,
कि उन मासूम आँखों में नमी देखी नहीं जाती
 
Illahi Unke Hisse Ka Bhi Gum Mujhko Ata Kar De

Ki Un Masoom Aankho Me Nami Dekhi Nahi Jaati
 
मुसीबत और लम्बी ज़िंदगानी
बुज़ुर्गों की दुआ ने मार डाला-मुज़्तर ख़ैराबादी
 
Musibat Aur Lambi Zindagani

Bujurgo Ki Dua Ne Maar Daala -Mujtar Khairabadi
 
मैंने अपना ग़म आसमान को सुना दिया
शहर के लोगों ने बारिश का मजा लिया
 
Maine Apna Gum Aasmaan Ko Suna Diya

Shehar Ke Logon Ne Barish Ka Maza Liya
 

Gam Bhari Shayari Photo / Gam Bhari Shayari Image

 
ऐ ग़म-ए-ज़िंदगी न हो नाराज़
मुझ को आदत है मुस्कुराने की -अब्दुल हमीद अदम
 
Ae Gum-a-Zindagi N Ho Naraaz

Mujh Ko Adat Hai Muskuraane Ki -Abdul Hamedd Adam
 
मेरे कमरे में अँधेरा नहीं रहने देता,
आपका ग़म मुझे तन्हा नहीं रहने देता
 
Mere Kamre Me Andhera Nahi Rehane Deta

Aapka Gum Mujhe Tanha Nahi Rehane Deta
 
क्या खूब दिखाया दुनिया ने अपना रंग,
हम रंग भरते भरते खुद बे-रंग हो गए -सुनीता
 
Kya Khoob Dikhaya Duniya Ne Apna Rang

Hum Rag Bharte-Bharte Khud Be-Rang Ho Gaye -Suneeta

जानता हूँ एक ऐसे शख्स को मैं भी 'मुनीर',
ग़म से पत्थर हो गया लेकिन कभी रोया नहीं-Munir Niyazi
 
Jaanata Hoon Ek Aise Shaks Ko Mai Bhi 'Muneer'

Gum Se Patthar Ho Gaya Lekin Kabhi Roya Nahi -Munir Niyazi
 
ढूंढ़ लाया हूँ ख़ुशी की छाँव जिसके वास्ते,
एक ग़म से भी उसे दो-चार करना है मुझे
 
Dhoodh Laaya Hoon Khushi Ki Chaaw Jiske Vaaste

Ek Gum Se Bhi Use Do-Chaar Karna Hai Mujhe -Gulaam Husain Saazid
 
दुनिया भी मिली गम-ए-दुनिया भी मिली है,
वो क्यूँ नहीं मिलता जिसे माँगा था खुदा से
 
Duniya Bhi Mili Gum-e-Duniya Bhi Mili Hai

Wo Kyu Nahi Milta Jise Maanag Tha Khuda Se
 
चिंगारियाँ न डाल मिरे दिल के घाव में
मैं ख़ुद ही जल रहा हूँ ग़मों के अलाव में -सैफ़ ज़ुल्फ़ी
 
Chingaariya N Daal Mere Dil Ke Ghaaw Me

Mai Khud Jal Raha Hoon Gumon Ke Alaaw Me -Saif Zulfi
 
मौत-ओ-हस्ती की कश्मकश में कटी तमाम उम्र,
ग़म ने जीने न दिया शौक़ ने मरने न दिया
 
Maut-o-Hasti Ki Kashmkash Me Kati Tamaam Umr

Gum Ne Jeene N Diya Shauk Ne Marne N Diya

Gam Bhari Shayari Wallpaper

 
उन का ग़म उन का तसव्वुर उन की याद
कट रही है ज़िंदगी आराम से -महशर इनायती
 
Unka Gum Unka Tasavvur Un Ki Yaad

Kat Rahi Hai Zindagi Araam Se -Mahshar Inayati

चाहा था मुक़म्मल हो मेरे गम की कहानी,
मैं लिख न सका कुछ भी तेरे नाम से आगे
 
Chaha Tha Mukammal Ho Mere Gum Ki Kahani

Mai Likh N Saka Kuch Bhi Tere Naam Se Aage

अज़ल भी टल गई देखी गई हालत न आँखों से,
शब-ए-ग़म में मुसीबत सी मुसीबत हम ने झेली है
 
Ajal Bhi Tal Gayi Dekhi Gayi Halaat N Aankho Se

Shab-e-Gum Me Musibat Si Musibat Hum Ne Jheli Hai-Shaad Ajimabadi
 


Read More -
    Gam Bhari Shayari In Hindi | ग़म शायरी Gam Bhari Shayari In Hindi | ग़म शायरी Reviewed by Feel neel on January 13, 2020 Rating: 5

    No comments:

    Powered by Blogger.