Ishq Shayari In Hindi | इश्क़ शायरी

 

Ishq Shayari In Hindi | इश्क़ शायरी


 
एक ख़लिश सी रह गयी दिल में,
मुझ जैसा इश्क़ करता, मुझ से भी कोई -अनिल कुमार साहू
 
Ek Khalish Si Reh Gayi Dil Me

Mujh Jaisa Ishq Karta, Mujh Se Bhi Koi -Anil Kumar Saahu
 
मैं भी हुआ करता था वकील इश्क वालों का कभी
नज़रें उस से क्या मिलीं आज खुद कटघरे में हूँ
 
Mai Bhi Hua Karte Tha Wakeel Ishq Waalon Ka Kabhi

Nazrein Us Se Kya Mili Aaj Khud Katghare Me Hu

इश्क़ ने 'ग़ालिब' निकम्मा कर दिया
वर्ना हम भी आदमी थे काम के  -मिर्ज़ा ग़ालिब


Ishq Ne Ghalib Nikamma Kar Diya

Varna Hum Bhi Adami The Kaam Ke -Mirza Ghalib

इश्क़ को एक उम्र चाहिए और
उम्र का कोई एतिबार नहीं  -जिगर बरेलवी

 
Ishq Ko Chahiye Ek Umr Chahiye Aur

Umr Ka Koi Aitbaar Nahi-Jigar Barelavi
 

Ishq Shayari Two Lines


ये इश्क़ नहीं आसान बस इतना समझ लीजे
इक आग का दरिया है और डूब के जाना है


Ye Ishq Nahi Asaan Bas Itna Samajh Lijiye

Ik Aag Ka Dariya Hai Aur Doob Ke Jaana Hai -Jigar Moradabadi

इश्क़ नाज़ुक-मिज़ाज है बेहद
अक़्ल का बोझ उठा नहीं सकता -अकबर इलाहाबादी


Ishq Naajuk-Mizaaz Hai Behad

Akl Ka Bojh Utha Nahi Sakta -Akbar Illahabadi
 

Ishq Shayari In Hindi | इश्क़ शायरी


कोई समझे तो एक बात कहूँ
इश्क़ तौफ़ीक़ है गुनाह नहीं  -फ़िराक़ गोरखपुरी


Koi Samjhe Toh Ek Baat Kahu

Ishq Taufeek Hai Gunaah Nahi -Firaaq Gorakhpuri

सितारों से आगे जहाँ और भी हैं
अभी इश्क़ के इम्तिहाँ और भी हैं -अल्लामा इक़बाल

 
Sitaaron Se Aage Jahan Aur Bhi Hai

Abhi Ishq Ke Imtihaan Aur Bhi Hai -Allama Iqbal

Ishq Shayari In Hindi | इश्क़ शायरी

 
राह-ए-दूर-ए-इश्क़ में रोता है क्या
आगे आगे देखिए होता है क्या -मीर तक़ी मीर

Raah-e-Door-e-Ishq Me Rota Hai Kya

Aage-Aage Dekhiye Hota Hai Kya -Mir Taki Mir

इश्क़ है इश्क़ ये मज़ाक़ नहीं
चंद लम्हों में फ़ैसला न करो -सुदर्शन फ़ाख़िर

 
Ishq Hai Ishq Ye Majaak Nahi

Chand Lamho Me Faisla N Karo -Sudarshan Fhakhir

कुछ खेल नहीं है इश्क़ करना
ये ज़िंदगी भर का रत-जगा है -अहमद नदीम क़ासमी

 
Kuch Khel Nahi Hai Ishq Karna

Ye Zindagi Bhar Ka Ratjaga Hai -Ahmad Nadeem Kaasmi

जिसे इश्क़ का तीर कारी लगे
उसे ज़िंदगी क्यूँ न भारी लगे -वली मोहम्मद वली


Jise Ishq Ka Teer-Kaari Lage

Use Zindagi Kyu N Bhaari Lage -Wali Mohammad Wali

इश्क़ में भी कोई अंजाम हुआ करता है
इश्क़ में याद है आग़ाज़ ही आग़ाज़ मुझे -ज़िया जालंधरी

 
Ishq Me Bhi Anzaam Hua Karta Hai

Ishq Me Yaad Hai Agaaz Hi Agaaz Mujhe -Jiya Lalandhari
 

Shayari On Ishq

 

कूचा-ए-इश्क़ में निकल आया
जिस को ख़ाना-ख़राब होना था  -जिगर मुरादाबादी


Koocha-e-Ishq Me Nikal Aaya

Jis Ko Khaan-Kharaab Hona Tha -Jigar Moradabdi

क्या कहा इश्क़ जावेदानी है!
आख़िरी बार मिल रही हो क्या  -जौन एलिया


Kya Kaha Ishq Jaavedaani Hai

Aakhiri Baar Mil Rahi Ho Kya -John Elia

इश्क़ पर ज़ोर नहीं है ये वो आतिश 'ग़ालिब'
कि लगाए न लगे और बुझाए न बने  -मिर्ज़ा ग़ालिब


Ishq Par Zor Nahi Hai  Ye Wo Aatish "Ghalib"

Ki Lagaye N Lage Aur Bujhaye N Bujhe -Mirza Ghalib

इश्क़ का रोग भला कैसे पलेगा मुझ से
क़त्ल होता ही नहीं यार अना का मुझ से -प्रखर मालवीय कान्हा

 
Ishq Ka Rog Bhala Kaise Palega Mujh Se

Katl Hota Hi Nahi Yaar Ana Ka Mujhse -Prakhar Maalviya Kanha

इश्क़ का रोग तो विर्से में मिला था मुझ को
दिल धड़कता हुआ सीने में मिला था मुझ को  -भारत भूषण पन्त

 
Ishq Ka Rog Toh Virse Me Mila Tha Mujh Ko

Dil Dhadakata Hua Seene Me Mila Tha Mujh Ko  -Bharat Bhoosan Pant
 

Ishq Wali Shayari


रोग ऐसे भी ग़म-ए-यार से लग जाते हैं
दर से उठते हैं तो दीवार से लग जाते हैं  -अहमद फ़राज़


Rog Aise Bhi Gum-e-Yaar Se Lag Jaate Hai

Dar Se Uthate Hai Toh Deewar Se Lag Jaate Hai -Ahmad Faraz

इश्क़ का रोग उन के बस का नहीं
दूर से वो सलाम करते हैं -रईस नारवी

 
Ishq Ka Rog Un Ke Bas Ka Nahi

Door Se Wo Salaam Karte Hai -Rasees Naaravi

घटे तो चैन नहीं है बढ़े तो चैन नहीं
हमें लगा है ये क्या रोग कोई पहचाने -जिगर बरेलवी


Ghate Toh Chain Nahi Hai Badhe Toh Chain Nahi Hai

Hamein Laga Hai Ye Kya Rog Koi Pehchaane -Jigar Moradabdi

ताक़-ए-जाँ में तेरे हिज्र के रोग संभाल दिए
उस के बाद जो ग़म आए फिर हँस के टाल दिए -शहनाज़ नूर


Taak-e-Jaan Me Tere Hizr Ke Rog Sambhal Diye

Us Ke Baad Jo Gum Aaye Phir Has Ke Taal Diye - Shehnaaz Noor

हिज्र बना आज़ार सफ़र कैसे कटता
इश्क़ के रोग हज़ार सफ़र कैसे कटता -अली अकबर मंसूर

 
Hizr Bana Azaar Safar Kaise Katata

Ishq Ke Rog Hazaar Safar Kaise Katata -Ali Akbar Mansoor

Ishq Shayari In Hindi | इश्क़ शायरी


रोग ही रोग हैं जिस ओर नज़र जाती है
फिर भटकता हूँ फ़क़त मौत मुझे भाती है -ज़ाहिद डार

 
Rog Hi Rog Hai Jis Or Nazar Jaati Hai

Phir Bhatakata Hoon Fakat Maut Mujhe Bhaati Hai -Zaahid Daar

इश्क़ का रोग कि दोनों से छुपाया न गया
हम थे सौदाई तो कुछ वो भी दिवाने निकले -कुमार पाशी


Ishq Ka Rog Ki Dono Se Chupaaya N Gaya

Hum The Saudaai Toh Kuch Wo Bhi Deewane Nikle -Kumar Pashi

इश्क़ का रोग लगा है कई बरसों से मुझे
किस लिए मुझ को ये फिर दुनिया दवा देती है -अम्बर जोशी

 
Ishq Ka Rog Laga Hai Kai Barso Se Mujhe

Kis Liye Mujh Ko Ye Phir Duniya Dawa Deti Hai -Ambar Joshi

क्या कहूँ तुम से मैं कि क्या है इश्क़
जान का रोग है बला है इश्क़ -मीर तक़ी मीर


Kya Kahun Tumse Mai Ki Kya Hai Ishq

Jaan Ka Rog Hai Bala Hai Ishq -Mir Taki Mir

हुज़ूर छोड़िए हमें हज़ार और रोग हैं
हुज़ूर जाइए कि हम बहुत ग़रीब लोग हैं -अहमद फ़राज़

 
Huzoor Chodiye Hamein Hazaar Aur Rog Hai

Huzoor Jaaiye Ki Hum Bahut Gareeb Log Hai -Ahmad Faraz

घटे तो चैन नहीं है बढ़े तो चैन नहीं
हमें लगा है ये क्या रोग कोई पहचाने -जिगर बरेलवी


Ghate Toh Chain Nahi Hai Badhe Toh Chain Nahi

Hamein Laga Hai Ye Kya Rog Koi Pehchaane -Jigar Barelavi

दिल में हो फ़क़त तुम ही तुम आँखों पे न जाओ
आँखों को तो है रोग परेशाँ-नज़री का -हफ़ीज़ होशियारपुरी

 
Dil Me Ho Fakat Tum Hi Tu Aankho Pe N Jao

Aankho Ko Toh Hai Rog Pareshaan Nazri Ka -Hafeez Hoshiyarpuri

Ishq Shayari In Hindi | इश्क़ शायरी


न तू बंदों से है राज़ी न बंदे तुझ से राज़ी हैं
ख़ुदाई रोग है परवरदिगारा हम न कहते थे -ज़ीशान साजिद

 
N Tu Bando Se Hai Raazi N Bande Tujh Se Raazi Hai

Khudaai Rog Hai Parwardigaara Hum N Kehate The - Zeshan Saazid

इश्क़ आसाँ है मगर रोग है दीवानों का
बार-ए-ग़म यूँ ही बहुत है उसे दो-चंद न कर -नामी अंसारी

 
Ishq Asaan Hai Magar Rog Hai Deewano Ka

Baar-e-Gum Yun Hi Bahut Hai Use Do-Chand N Kar -Naami Ansari

साहिल-ए-मर्ग पे रफ़्ता रफ़्ता ले आया
तन्हाई का रोग भी अच्छा दुश्मन है -अहमद ज़फ़र

 
Saahil-e-Marg Pe Rafta-Rafta Le Aaya

Tanhaai Ka Rog Bhi Achcha Dusman Hai - Ahmad Faraz

इश्क़ में पहले तो बीमार बना देते हैं
फिर पलटते ही नहीं रोग लगाने वाले -ज़िया ज़मीर


Ishq Me Pehale Toh Beemar Bana Dete Hai

Phir Palatate Hi Nahi Rog Lagane Wale -Ziya Zameer

इश्क़ का रोग उन के बस का नहीं
दूर से वो सलाम करते हैं -रईस नारवी

 
Ishq Ka Rog Un Ke Bas Ka Nahi

Door Se Wo Salaam Karte Hai -Rasees Naaravi

फ़रिश्ते ही होंगे जिनका हुआ इश्क मुकम्मल,

इंसानों को तो हमने सिर्फ बर्बाद होते देखा है


Farishte Hi Honge Jinka Hua Ishq Muqammal

Insaano Ko Toh Hamne Sirf Barbaad Hote Dekha Hai

मेरे इश्क़ से मिली है  तेरे हुस्न को ये शौहरत ,

तेरा ज़िक्र ही कहाँ था मेरी दीवानगी से पहले 

 
Mere Ishq Se Mili Hai Tere Husn Ko Ye Shoharat

Tera Zikr Hi Kahan Tha Meri Deewanagi Se Pehale

Ishq Shayari In Hindi | इश्क़ शायरी

 

कुछ तो शराफत सीख ले, ऐ इश्क़ शराब से
बोतल पे लिखा तो होता है, मैं जानलेवा हूँ

 
Kuch Toh Sharafat Seekh Le, Ae Ishq Sharaab Se

Botal Pe Likha Toh Hota Hai, Mai Jaanleva Hoon

बरसों से कायम है इश्क़ अपने उसूलों पर,
ये कल भी तकलीफ देता था ये आज भी तकलीफ देता है

 
Barso Se Kayam Hai Ishq Apne Usoolon Par

Ye Kal Bhi Takleef Deta Tha Ye Aaj Bhi Takleef Deta Hai

बंद कर दिए हैं हमने तो दरवाजे इश्क के
पर कमबख़्त तेरी यादें तो दरारों से ही चली आई

 
Band Kar Diye Hai Hamne Toh Darwaaje Ishq Ke'

Par Kambakht Teri Yaadein Dararon Se Hi Chali Aati Hai

इश्क की गहराईयों में खूबसूरत क्या है

एक मैं हूँ, एक तुम हो और ज़रुरत क्या है

 
Ishq Ke Gehraaiyon Me Khoobsurat Kya Hai

Ek Mai Hoon, Ek Tum Ho Aur Zarurat Kya Hai

खतम हो गई कहानी, बस कुछ अलफाज बाकी हैं
एक अधूरे इश्क की एक मुकम्मल सी याद बाकी है

 
Khatam Ho Gayi Kahani Bas Kuch Alfaaz Baaki Hai

Ek Adhoore Ishq Ki Ek Mukammal Si Yaad Baaki Hai
 

Ishq Shayari In Hindi | इश्क़ शायरी

 

इश्क में, मैं खुद को बेकसूर कहती थी पहले
भूल जाती हूँ कि इस दिल की भी तो शरारत थी कुछ


Ishq Me, Mai Khud Ko Be-Kasoor Kehati Thi Pehale

Bhool Jaati Hu Ki Dil Ko Bhi Toh Shararat Thi Kuch

जाने कब उतरेगा क़र्ज़ उसकी मोहब्बत का 
हर रोज आँसुओं से इश्क की किस्त भरते हैँ


Jaane Kab Utarega Karz Uski Mohabbat Ka

Har Roz Aansuo Se Ishq Ki Kist Bharte Hai

इश्क़ है तो शक कैसा
अगर नहीं है तो फिर हक कैसा..?


Ishq Hai To Shak Kaisa

Agar Nahi Hai Toh Phir Haq Kaisa..?

ऐ इश्क मुझे अब और जख्म चाहिये
मेरी शायरी मे अब वो बात नही रही


Ae Ishq Mujhe Ab Aur Zakhm Chahiye

Meri Shayari Me Ab Wio Baat Nahi Rahi

इश्क सूफी है ना मुफ्ती है ना आलीम है
ये जालीम है बहूत जालीम है फकत जालीम है


Ishq Sufi Hai Na Mufti Hai Na Aalim Hai

Ye Zaalim Hai Bahut Zaalim Hai, Faqat Zalim Hai

खूबसूरत मैं नहीं ये तुम्हारा इश्क़ है
जो नूर बनकर मेरी आँखों से छलकता है


Khoobsurat Mai Nahi Ye Tumhara Ishq Hai

Jo Noor Bankar Meri Aankho Se Chalakata Hai

नादानियाँ झलकती हैं अभी भी मेरी आदतों से
मैं खुद हैरान हूँ के मुझे इश्क़ हुआ कैसे


Naadaniyaan Jhalakati Hai Abhi Bhi Meri Aadaton Se

Mai Khud Hairaan Hu Ke Mujhe Ishq Hua Kaise

इश्क कर लीजिए बेइंतेहा किताबो से
एक यही ऐसी चीज़ है जो अपनी बातों से पलटा नही करती

 
Ishq Kar Lijiye Be-Imtihaan Kitaabon Se

Ek Yahi Cheez Hai Jo Apni Baaton Se Palata Nahi Karti

प्यार था , मोहब्बत थी , इश्क़ था , अदा थी ,
सब कुछ था उस हसीन मै अगर वफ़ा होती तो कयामत होती 


Pyaar Tha, Mohabbat Thi, Ishq Tha, Ada Thi

Sab Kuch Tha Us Haseen Me Agar Wafa Hoti Toh Qayamat Hoti


आधे से कुछ ज्यादा है, पूरे से कुछ कम
कुछ जिंदगी कुछ गम, कुछ इश्क कुछ हम

 
Aadhe Se Kuch Jyada Hai Pure Se Kuch Kam

Kuch Zindagi Kuch Gum, Kuch Ishq Kuch Hum
 

Ishq Shayari In Hindi | इश्क़ शायरी


वो कहता है की बता तेरा दर्द कैसे समझू 
मैंने कहा की इश्क़ कर और कर के हार जा 

 
Wo Kehata Hai Ki Bata Tera Dard Kaise Samjhu

Maine Kaha Ki Ishq Kar Aur Kar Ke Haar Ja


इश्क में इसलिए भी धोखा खानें लगें हैं लोग,

दिल की जगह जिस्म को चाहनें लगे हैं लोग


Ishq Me Isliye Bhi Dhokha Khaane Lage Hai Log

Dil Ki Jagah Jism Ko Chahane Lage Hai Log


इश्क ने कब इजाजत ली है आशिक़ों से

वो होता है, और होकर ही रहता है


Ishq Ne Kab Izajat Li Hai Aashiqo Se

Wo Hota Hai Aur Hokar Rehata Hai


सच्चे इश्क में अल्फाज़ से ज्यादा
एहसास की एहमियत होती है

 
Sachche Ishq Me Alfaaz Se Jyada

Ehsaas Ki Ahamiyat Hoti Hai

चाहने की वजह कुछ भी नहीं ,
बस इश्क की फितरत है, बे- वजह होना


Chahane Ki Wajah Kuch Bhi Nahi

Bas Ishq Ki Fitarat Hai, Be-Wajah Hona


रहना यूं तेरे खयालों मे, ये मेरी आदत है
कोई कहता इश्क , कोई कहता इबादत है

 
Rehana Yun Hi Khayalon Me Ye Meri Aadat Hai

Koi Kehata Ishq, Koi Kehata Ibadat Hai

इन आँखो में कैद थे गुनाह ए इश्क कि सजा के बेहिसाब आंसु
तेरी यादों ने आकर उनकी जमानत कर दी


In Aankho Me Kaid The Gunaah-e-Ishq Ki Saza Ke Be-Hisaab Aansu

Teri Yaadon Ne Akar Unki Zamanat Kar Di

जरुरी तो नहीं, हर चाहत का मतलब इश्क हो,

कभी कभी कुछ अनजान रिश्तों के लिए भी

 
Zaruri Toh Nahi, Har Chahat Ka Matlab Ishq Ho

Kabhi-Kabhi Kuch Anjaan Rishton Ke Liye Bhi

इश्क़ तो साहब यूं ही मुफ़्त में बदनाम है
हुस्न खुद बे-ताब रहता है जलवा दिखाने के लिए 


Husn Toh Sahab Yun Hi Muft Me Badnaam Hai

Husn Khud Be-Taab Rehata Hai Jalwa Dikhaane Ke Liye

गलत सुना था कि,इश्क़ आँखों से होता है
दिल तो वो भी ले जाते है,जो पलके तक नही उठाते है

 
Galat Suna Tha Ki Ishq Aankho Se Hota Hai

Dil Toh Wo Bhi Le Jaate Hai Jo Palke Tak Nahi Uthate Hai


इश्क़ के चर्चे भले ही सारी दुनिया में होते होंगे,

पर दिल तो ख़ामोशी से ही टूटते है


Ishq Ke Charche Bhale Hi Saari Khamoshi Me Hote Honge

Par Dil Toh Khamoshi Se Ho Tootate Hai

ऐ इश्क! तेरा वकील बनके बुरा किया मैंने
यहां हर शायर तेरे खिलाफ सबूत लिए बैठा है


Ae Ishq Tera Wakeel Banke Bura Kiya Maine

Yahan Har Shayar Tere Khilaaf Suboot Liye Baitha Hai

तेरे ख़त में इश्क की गवाही आज भी है,
हर्फ़ धुंधले हो गए पर स्याही आज भी है


Tere Khat Me Ishq Ki Gawaahi Aaj Bhi Hai

Harf Dhoondhale Ho Gaye Par Syaahi Aaj Bhi Hai

तू यकीन करें या ना करें तेरे साथ से मैं सवर गई
तेरे इश्क के जूनून मे मैं सारी हदों से गुजर गई


Tu Yakeen Kare Ya Na Kare Tere Sath Mai Sawar Gayi

Tere Ishq Ke Junoon Me Mai Saari Hadon Se Guzar Gayi

बरबाद कर देती है मोहब्बत हर मोहब्बत करने वाले को

इश्क़ हार नही मानता और दिल बात नही मानता

 
Barbaad Kar Deti Hai Mohabbat Har Mohabbat Karne Waale Ko

Ishq Haar Nahi Manata Aur Dil Baat Nahi Manata

दुनिया में तेरे इश्क़ का चर्चा ना करेंगे,

मर जायेंगे लेकिन तुझे रुस्वा ना करेंगे

 
Duniya Me Tere Ishq Ka Charcha Na Karenge

Mar Jayenge Lekin Tujhe Ruswa Na Karenge

गुस्ताख़ निगाहों से अगर तुमको गिला है,

हम दूर से भी अब तुम्हें देखा ना करेंगे

 
Gustaakh Nigaahon Se Agar Tumko Gila Hai

Hum Door Se Bhi Ab Tumhe Dekha Na Karenge

झुका ली उन्होंने नज़रे जब मेरा नाम आया ‪
इश्क़ मेरा नाकाम ही सही पर कही तो काम आया

 
Jhuka Li Unhone Nazrein Jab Mera Naam Aaya

Ishq Mera Nakaam Hi Sahi Par Kahin Toh Kaam Aaya

तुम हक़ीक़त-ए-इश्क़ हों या फ़रेब मेरी आँखों का,
न दिल से निकलते हो न मेरी ज़िन्दगी में आते हो


Tum Haqiqat-e-Ishq Ho Ya Fareb Meri Aankho Ka

N Dil Se Nikalte Ho N Meri Zindagi Me Aate Ho

मोहब्बत‬ नही थी तो एक बार समझाया‬ तो होता
बेचारा‬ दिल तुम्हारी ‪‎ख़ामोशी‬ को ‪इश्क़‬ समझ बैठा

 
Mohabbat Nahi Thi Toh Ek Baar Samjhaya Toh Hota

Bechaara Dil Tumhari Khamoshi Ko Ishq Samajh Baitha

खतम हो गई कहानी, बस कुछ अलफाज बाकी है
एक अधूरे इश्क की एक मुकम्मल सी याद बाकीहै


Khatam Ho Gayi Kahani Bas Kuch Alfaaz Baaki Hai

Ek Adhoore Ishq Ki Ek Muqammal Si Yaad Baaki Hai

ना आह सुनाई दी ना तड़प दिखाई दी

बर्बाद हो गए तेरे इश्क में हम बड़ी खामोशी के साथ

 
Na Aah Sunaai Di Na Tadap Dikhaai Di

Barbaad Ho Gaye Tere Ishq Me Hum Badi Khamoshi Ke Sath

हुस्न की मल्लिका हो या साँवली सी सूरत
इश्क अगर रूह से हो तो हर चेहरा कमाल लगता है


Husn Ki Mallika Ho Ya Saawali Si Soorat

Ishq Agar Rooh Se Ho Toh Har Chehara Kamaal Lagta Hai

इश्क का समंदर भी क्या समंदर है,

जो डूब गया वो आशिक जो बच गया वो दीवाना

 
Ishq Ka Samandar Bhi Kya Samandar Hai

Jo Doob Gaya Wo Aashiq Jo Bach Gaya Wo Deewana

इश्क क्या चीज होती है यह पूछिये परवाने से,
जिंदगी जिसको मयस्सर हुई मर जाने के बाद


Ishq Kya Cheez Hoti Hai Yeh Poochiye Parwaane Se

Zindagi Jisko Mayassar Hui Mar Jaane Ke Baad

इश्क के रास्ते में मुमसिक तो बहुत मिले,
मिला दे महबूब से ना आज तक कोई ऐसा मिला

 
Ishq Ke Raaste Me Mumsik Toh Bahut Mile

Mila De Mehboob Se Na Aaj Tak Koi Aisa Mila

कुछ अजब हाल है इन दिनों तबियत का साहब,
ख़ुशी ख़ुशी न लगे और ग़म बुरा न लगे

 
Kuch Ajab Haal Hai In Dino Tabiyat Ka Sahab

Khushi, Khushi Na Lage Aur Gum Bura Na Lage



Read More -
    Ishq Shayari In Hindi | इश्क़ शायरी Ishq Shayari In Hindi | इश्क़ शायरी Reviewed by Feel neel on January 16, 2020 Rating: 5

    3 comments:

    Powered by Blogger.