Matlabi Duniya Shayari In Hindi | मतलबी दुनिया शायरी


Matlabi Duniya Shayari In Hindi | मतलबी दुनिया शायरी


दुनिया जिसे कहते हैं जादू का खिलौना है
मिल जाए तो मिट्टी है खो जाए तो सोना है -निदा फ़ाज़ली
 
Duniya Jise Kehata Hai Jadu Ka Khilauna Hai

Mil Jaye Toh Toh Mitti Hai Kho Jaaye Toh Sona Hai - Nida Fazli

बुरे वक्त की सबसे अच्छी बात यह है कि
जब ये आता है तब मतलबी दोस्त दूर हो जाते है
 
Bure Wakt Ki Sabse Achchi Baat Yeh Hai Ki

Jab Ye Wakt Aata Hai Tab Matalbi Dost Door Ho Jaate Hai
 
घर के बाहर ढूँढता रहता हूँ दुनिया
घर के अंदर दुनिया-दारी रहती है-राहत इंदौरी
 
Ghar Ke Bahar Dhoondhta Hu Duniya

Ghar Ke Andar Duniya-Daari Rehati Hai - Rahat Indori
 
दुनिया में हूँ दुनिया का तलबगार नहीं हूँ
बाज़ार से गुज़रा हूँ ख़रीदार नहीं हूँ -अकबर इलाहाबादी
 
Duniya Me Hu Duniya Ka Talabgaar Nahi Hu

Bazaar Se Guzra Hu Khareed-Daar Nahi Hu - Akbar Illahabadi
 
इस मतलबी दुनिया में दोस्ती सिर्फ इक दिखावा है,
तुझे भी धोखा मिलेगा, ये मेरा दावा है
 
Is Matalbi Duniya Me Dosti Sirf Ek Dikhawa Hai

Tujhe Bhi Dhokha Milega, Ye Mera Dawa Hai
 
कुछ यूँ हुआ कि जब भी जरुरत पड़ी मुझे
हर शख्स इतेफाक से मजबूर हो गया 
 
Kuch Yun Hua Ki Jab Bhi Jarurat Padi Mujhe

Har Shaksh Ittefaak Se Majboor Ho Gaya
 

Matlabi Duniya Shayari In Hindi | मतलबी दुनिया शायरी


जुस्तुजू जिस की थी उस को तो न पाया हम ने
इस बहाने से मगर देख ली दुनिया हम ने -शहरयार

Justju Jis Ki Thi Us Ko Toh Na Paaya Hamne

Is Bahane Se Magar Dekh Li Duniya Hamne - Sheharyaar

मतलबी दुनिया के लोग खड़े है हाथों में पत्थर लेकर,
मैं कहाँ तक भागूँ शीशे का मुकद्दर लेकर
 
Matalbi Duniya Ke Log Khade The Hathon Me Patthar Lekar

Mai Kahan Bhagu Sheeshe Ka Muqaddar lekar

आज गुमनाम हूँ तो ज़रा फासला रख मुझसे
कल फिर मशहूर हो जाऊँ तो कोई रिश्ता निकाल लेना
 
Aaj Gumnaam Hu Zara Fasala Rakh Mujhse

Kal Gum Mashoor Ho Jaun Toh Koi Rishta Nikaal Lena
 
गाँव की आँख से बस्ती की नज़र से देखा
एक ही रंग है दुनिया को जिधर से देखा-असअ'द बदायुनी
 
Gaon Ki Aankhe Basti Ki Nazar Se Dekha

Ek Hi Rang Hai Duniya Ko Jidhar Se Dekha - Asad Badayuni
 
देख के दुनिया अब हम भी बदलेंगे मिजाज़
रिश्ता सब से होगा लेकिन वास्ता किसी से नहीं
 
Dekh Ke Duniya Ab Hum Bhi Badalenge Mizaaz

Rishta Sab Se Hoga Lekin Vaasta Kisi Se Nahi
 
इक नज़र का फ़साना है दुनिया
सौ कहानी है इक कहानी से-नुशूर वाहिदी
 
Ik Nazar Ka Fasana Hai Duniya

Sau Kahani Hai Ik Kahani Se - Nushoor Waahidi
 

Shayari On Matlabi Duniya

 
दुनिया की बातों का हम ऐतबार नहीं करते हैं
जमीर का सौदा करके हम प्यार नहीं करते हैं
 
Duniya Ki Baaton Ka Hum Aitbaar Nahi Karte Hai

Zameer Ka Sauda KLarke Hum Pyaar Nahi Karte Hai
 
दुनिया की क्या चाह करें
दुनिया आनी-जानी है -तनवीर गौहर
 
Duniya Ki Kya Chaah Kare

Duniya Aani Jaani Hai - Tanveer Gauhar
 
जिन्दगी जीने का कुछ ऐसा अंदाज रखों,
मतलबी दोस्तों को नजरअंदाज रखों
 
Zindagi Jeene Ka Kuch Aisa Andaaz Rakho

Matalbi Dosto Ki Nazar-Andaaz Rakho
 
देखो दुनिया है दिल है
अपनी अपनी मंज़िल है -महबूब ख़िज़ां
 
Dekho Duniya Hai Dil Hai

Apni-Apni Manzil Hai - Mehboob Khizaan
 
कौन किसको दिल में जगह देता हैं,
सूखे पत्ते तो पेड़ भी गिरा देता हैं
 
Kaun Kisko Dil Me Jagah Deta Hai

Sookhe Patte Toh Ped Bhi Gira Deta Hai
 

Matlabi Duniya Shayari In Hindi


कैसे भरोसा करू गैरों के प्यार पर,
यहाँ अपने ही मजा लेते हैं अपनों की हार पर
 
Kaise Bharosa Karu Gairon Ke Pyaar Par

Yahan Apne Hi Maza Lete Hai Apno Ki Haar Par
 
दुनिया में हम रहे तो कई दिन प इस तरह
दुश्मन के घर में जैसे कोई मेहमाँ रहे -क़ाएम चाँदपुरी
 
Duniya Me Hum rahe Toh Kai Din The Is Tarah

Dushman Ke Ghar Me Jaise Koi Mehmaan Rahe - Kaim Chandpuri
 
मेरे बुरे वक्त में मेरी कमियाँ गिनाने लगे है,
मतलबी दोस्त, दोस्ती का मतलब समझाने लगे है
 
Mere Bure Wakt Me Meri Kamiyaan Ginaane Lage Hai

Matlabi Dost, Dosti Ka Matlab Samjhaane Lage Hai
 
इस दौर में लोग हजारों दर्द दिल में छुपा के रखते है,
क्योंकि कोई हमदर्द नहीं मिलता है सुनाने के लिए
 
Is Daur Me Log Hazaron Dard Dil Me Chupa Ke Rakhte Hai

Kyuki Koi Humdard Nahi Milta Hai Sunane Ke Liye
 
मैं सूरज के साथ रहकर भी भूला नहीं अदब
लोग जुगनू का साथ पाकर मगरूर हो गये
 
Mai Sooraj Ke Sath Rehkar Bhi Bhoola Nahi Adab

Log Jugnu Ka Sath Pakar Magroor Ho Gaye
 
सच बोलों हमेशा मुस्कुराकर,
धोखा न देना दोस्त बनाकर
 
Sach Bolo Hamesha Muskurakar

Dhokha N Dena Dost Banakar
 
लोग ख़ुद पर विश्वास खोने लगे है,
अब तो दोस्त भी मतलबी होने लगे है

Log Khud Par Vishwas Khone Lage Hai

Ab Toh Dost Bhi Matalbi Hone Lage Hai

जब से देखी हैं हमने दुनिया करीब से,
लगने लगे हैं सारे रिश्ते अजीब से

Jab Se Dekhi Hai Duniya Kareeb Se

Lagne Lage Hai Daare Rishte Ajeeb Se

भूल शायद बहुत बड़ी कर ली
दिल ने दुनिया से दोस्ती कर ली -बशीर बद्र
 
Bhool Shayad Bahut Badi Kar Li

Dil Ne Duniya Se Dosti Kar Li-Bashir Badr



Read More -  

    Matlabi Duniya Shayari In Hindi | मतलबी दुनिया शायरी Matlabi Duniya Shayari In Hindi | मतलबी दुनिया शायरी Reviewed by Feel neel on January 20, 2020 Rating: 5

    No comments:

    Powered by Blogger.