Sharaab Shayari In Hindi | शराब शायरी

 

Sharaab Shayari In Hindi | शराब शायरी


एक शराब की बोतल दबोच रखी है,
तुझे भुलाने की तरकीब सोच रखी है
 
Ek Sharaab Ki Botal Daboch Rakhi Hai

Tujhe Bhulaane Ki Tarkeeb Soch Rakhi Hai
 
ग़म-ए-दुनिया भी ग़म-ए-यार में शामिल कर लो
नश्शा बढ़ता है शराबें जो शराबों में मिलें-अहमद फ़राज़
 
Gum-e-Duniya Bhi Gum-e-Yaar Me Shaamil Kar Lo

Nasha Badhata Hai Sharabein Jo Sharaabon Me Mile - Ahmad Faraz
 
बहुत अमीर होती है ये शराब की बोतलें,
पैसा चाहे जो भी लग जाए सारे ग़म ख़रीद लेतीं हैं
 
Bahut Ameer Hoti Hai Ye Sharaab Ki Botalein

Paisa Chahe Jo Bhi Lag Jaaye Saare Gum Kharid Leti Hai
 
खुली फ़ज़ा में अगर लड़खड़ा के चल न सकें
तो ज़हर पीना है बेहतर शराब पीने से-शहज़ाद अहमद
 
Khuli Faza Me Agar Ladkhada Ke Chal N Sake

Toh Zehar Peena Hai Behatar Sharaab Peene Se - Shehzaad Ahmad
 
मैकदे लाख बंद करें जमाने वाले,
शहर में कम नहीं आंखों से पिलाने वाले
 
Maykade Laakh Band Kare Zamane Waale

Shehar Me Kam Nahi Aankho Se Pilaane Waale
 
वो मिले भी तो इक झिझक सी रही
काश थोड़ी सी हम पिए होते -अब्दुल हमीद अदम
 
Wo Mile Bhi Toh Ik Jhijhak Si Rahi

Kash Thodi Si Hum Piye Hote - Abdul Hameed Adam
 
वो भी दिन थे जब हम भी पिया करते थे,
यूँ न करो हमसे पीने पिलाने की बात
 
Wo Bhi Din The Jab Hum Bhi Piya Karte The

Yun N Karo Humse Peene Pilaane Ki Baat
 

Shayari On Sharaab


तू होश में थी फिर भी हमें पहचान ना पायी,

एक हम है कि पीकर भी तेरा नाम लेते रहे
 
Tu Hosh Me Thi Phir Bhi Hamein Pehchaan Na Paayi

Ek Hum Hai Ki Peekar Bhi Tera Naam Lete Rahe
 

Shayari On Sharaab

 
ये ना पूछ मैं शराबी क्यूँ हुआ, बस यूँ समझ ले,
गमों के बोझ से, नशे की बोतल सस्ती लगी
 
Ye Na Pooch Mai Sharaabi Kyu Hua, Bas Yun Samajh Le

Gamon Ke Bojh Se Nashe Ki Botal Sasti Lagi
 
मिलावट है तेरे इश्क में इत्र और शराब की,
कभी हम महक जाते हैं कभी हम बहक जाते हैं
 
Milawat Hai Tere Ishq Me Itr Aur Sharaab Ki
Kabhi Hum Mehak Jaate Hai Kabhi Hum Behak Jaate Hai
 
हम इंतिज़ार करें हम को इतनी ताब नहीं
पिला दो तुम हमें पानी अगर शराब नहीं -नूह नारवी
 
Hum Intezaar Kare Hum Ko Itni Taab Nahi

Pila Do Tum Hamein Paani Agar Sharaab Nahi - Nuhu Naarwi
 
ज़ाहिद शराब पीने दे मस्जिद में बैठ कर,
या वो जगह बता दे जहाँ पर ख़ुदा न हो
 
Zaahid Sharaab Peene De Maszid Me Baithkar

Ya Wi Jagah Bata De Jahan Par Khuda N Ho
 
पी कर दो घूँट देख ज़ाहिद
क्या तुझ से कहूँ शराब क्या है-हफ़ीज़ जौनपुरी
 
Pee Kar Rakh Do Ghhoth Zaahid

Kya Tujh Se Kahun Sharaab Kya Hai -Hafeez  Jaunpuri
 
कभी उलझ पड़े खुदा से कभी साक़ी से हंगामा,
ना नमाज अदा हो सकी ना शराब पी सके
 
Kabhi Ulajh Pade Khuda Se Kabhi Saaki Se Hungama

Na Namaaz Ada Ho Saki Na Sharaab Pe Sake
 
मत पूछ उसके मैखाने का पता ऐ साकी,
उसके शहर का तो पानी भी नशा देता है
 
Mat Pooch Uske Maykhaane Ka Pata-Ae-Saaki
Uske Shehar Ka Toh Paani Bhi Nasha Deta Hai

उनकी आंखें यह कहती रहती हैं
लोग नाहक शराब पीते हैं
 
Unki Aankhe Yeh Kehati Rehati Hai
Log Nahak Sharaab Peete Hai

हम तो बदनाम हुए कुछ इस कदर दोस्तों,
की पानी भी पियें तो लोग शराब कहते हैं


Hum Toh Badnaam Hue Kuch Is Qadar Doston

Ki Paani Bhi Piye Toh Log Sharaab Kehate Hai



Read More - 
Sharaab Shayari In Hindi | शराब शायरी Sharaab Shayari In Hindi | शराब शायरी Reviewed by Feel neel on January 20, 2020 Rating: 5

2 comments:

Powered by Blogger.