Mothers Day Shayari In Hindi | मदर डे पर शायरी

 

Mothers Day Shayari In Hindi | मदर डे पर शायरी


आँख खोलू तो चेहरा मेरी माँ का हो
आँख बंद हो तो सपना मेरी माँ का हो
मैं मर भी जाऊं तो भी कोई गम नहीं
लेकिन कफ़न मिले तो दुपट्टा मेरी माँ का हो


Aankh Kholu Toh Chehara Meri Maa Ka Ho

Aankh Band Ho Toh Sapna Meri Maa Ka Ho

Mai Mar Bhi Jaun Toh Bhi Koi Gum Nahi

Lekin Kafan Mile Toh Dupatta Meri Maa Ka Ho




Jee mei aata hai, waqt se kuch palon ko mei chura lun
Maa ki god mei ser rakhkar, kuch pal sukoon ke bita lun




Duniye ke sang bhaagte bhaagte thak gaya hun maa
Teri mamta ki chaon tale thodi neerasta ko mita lun




माँ तेरी याद सताती है, मेरे पास आ जाओ
थक गया हूँ, मुझे अपने आँचल मैं सुलाओ
उंगलियाँ अपनी फेर कर बालों मैं मेरे
एक बार फिर से बचपन की लोरियाँ सुनाओ


Maa Teri Yaad Satati Hai, Mere Pass Aa Jaao

Thak Gaya Hu, Mujhe Apne Aanchal Me Sulaao

Ungliya Apni Fer Ka Baalon Me Mere

Ek Baar Phir Se Bachpan Ki Loriyaan Sulaao




माँ से रिश्ता ऐसा बनाया जाऐ
जिसको निगाहों में बिठाया जाऐ
रहे उसका मेरा रिश्ता कुछ ऐसे कि
वो अगर उदार हो तो हमसे भी…मुस्कुराया ना जाऐ


Maa Se Rishta Aisa Banaya Jaaye

Jisko Nigaahon Me Bithaya Jaaye

Rahe Uska Mera Rishta Kuch Aise Ki

Wo Agar Udaas Ho Toh Hamse Bhi Muskuraya Na Jaaye




हमारे कुछ गुनाहों की सज़ा भी साथ चलती है,
हम अब तन्हा नहीं चलते दवा भी साथ चलती है
अभी ज़िन्दा है माँ मेरी मुझे कुछ भी नहीं होगा,
मैं जब घर से निकलता हूँ दुआ भी साथ चलती है

 

Hamare Kuch Gunaahon Ki Saza Bhi Sath Chalti Hai

Hum Ab Tanha Nahi Chalte Dawa Bhi Sath Chalti Hai

Abhi Zinda Hai Maa Meri Mujhe Kuch Bhi Nahi Hoga

Mai Jab Ghar Se Nikalata Hu Dua Bhi Sath Chalti Hai




Mothers Day Shayari In English

 

ऐ मेरे मालिक
तूने गुल को गुलशन में जगह दी,
पानी को दरिया में जगह दी,
पंछियो को आसमान मे जगह दी,
तू उस शख्स को जन्नत में जगह देना,
जिसने मुझे नौ महीने पेट में जगह दी


Ae Mere Maalik

Toone Gul Ki Gulshan Me Jagah Di Paani Ko Dariya Me Jagah Di

Panchiyon Ko Aasmaan Me Jagah Di

Tu Us Shaksh Ko Jannat Me Jagah Dena

Jisne Mujhe Nau Maheene Pet Me Jagah Di

 


ये कहकर मंदिर से फल की पोटली चुरा ली माँ ने
तुम्हे खिलाने वाले तो और बहुत आ जायगे गोपाल
मगर मैने ये चोरी का पाप ना किया तो भूख से मर जायेगा मेरा लाल

 

Ye Kehakar Mandir Se Fal Ki Tokari Chura Li Maa Ne

Tumhe Khilaane Waale Toh Aur Bahut Aa Jayenge Gopal

Magar Maine Ye Chori Ka Paap Na Kiya Toh Bhookh Se Mar Jayega Mera Laal




“माँ” की एक दुआ जिन्दगी बना देगी,
खुद रोएगी मगर तुम्हे हँसा देगी…
कभी भुल के भी ना “माँ” को रूलाना,
एक छोटी सी गलती पूरा अर्श हिला देगी


Maa Ki Ek Dua Zindagi Bana Degi

Khud Royegi Magar Tumhe Hasa Degi

Kabhi Bhool Ke Bhi Na Maa Ko Rulana

Ek Choti Si Galti Poora Arsh Hila Degi



 

भेजे गए फ़रिश्ते हमारे बचाव को
जब हादसात माँ की दुआ से उलझ पड़े  -मुनव्वर राना

 

Bheje Gaye Farishte Hamare Bachaaw Ko

Jab Haadsaat Maa Ki Dua Se Ulajh Pade - Munavvar Rana




लबों पे उसके कभी बद्दुआ नहीं होती
बस एक माँ है जो मुझसे ख़फ़ा नहीं होती  -मुनव्वर राना

 

Labon Pe Uske Kabhi Baddua Nahi Hoti

           Bas Ek Maa Hai Jo Mujhse Khafa Nahi Hoti - Munavvar Rana




अब भी चलती है जब आँधी कभी ग़म की ‘राना’
माँ की ममता मुझे बाहों में छुपा लेती है -मुनव्वर राना

 

Ab Bhi Chalti Hai Jab Aandhi Kabhi Gum Ki 'Rana'

Maa Ki Mamta Mujhe Baahon Me Chupa Leti Hai- Munavvar Rana




जब तक रहा हूँ धूप में चादर बना रहा
मैं अपनी माँ का आखिरी ज़ेवर बना रहा -मुनव्वर राना


Jab Tak Raha Hu Dhoop Me Chada Bana Raha

Mai Apni Maa Ka Aakhiri Jevar Bana Raha - Munavvar Rana




किसी को घर मिला हिस्से में या कोई दुकाँ आई
मैं घर में सब से छोटा था मेरे हिस्से में माँ आई -मुनव्वर राना

 

Kisi Ko Ghar Mila Hisse Me Ya Koi Dukaa Aayi

      Ma Ghar Me Sab Se Chota Tha Mere Hisse Me Maa Aayi- Munavvar Rana




ऐ अँधेरे! देख ले मुँह तेरा काला हो गया
माँ ने आँखें खोल दीं घर में उजाला हो गया -मुनव्वर राना

 

Ae Andhere! Dekh Le Muh Tera Kaala Ho Gaya

Maa Ne Aankhe Khol Di Ghar Me Ujaala Ho Gaya - Munavvar Rana




इस तरह मेरे गुनाहों को वो धो देती है
माँ बहुत ग़ुस्से में होती है तो रो देती है -मुनव्वर राना

 

Is Tarah Mere Gunaahon Ko Wo Dho Deti Hai

Maa Bahut Gusse Me Hoti Hai Toh Ro Deti Hai - Munavvar Rana




Happy Mothers Day Shayari In Hindi

 

मेरी ख़्वाहिश है कि मैं फिर से फ़रिश्ता हो जाऊँ
माँ से इस तरह लिपट जाऊँ कि बच्चा हो जाऊँ -मुनव्वर राना


Meri Khwahish Hia ki Mai Phir Se Farishta Ho Jaun

Maa Se Is Tarah Lipat Jaun Ki Bachcha Ho Juan - Munavvar Rana




ख़ुद को इस भीड़ में तन्हा नहीं होने देंगे
माँ तुझे हम अभी बूढ़ा नहीं होने देंगे -मुनव्वर राना


Khud Ko Bheed Me Tanha Nahi Hone Denge

Maa Tujhe Hum Abhi Boodha Nahi Hone Denge- Munavvar Rana

 


दुआएँ माँ की पहुँचाने को मीलों मील जाती हैं
कि जब परदेस जाने के लिए बेटा निकलता है -मुनव्वर राना


Duaaye Maa Ki Pahuchane Ko Meelon Meel Jaati Hai

Ki Jab Pardesh Jaane Ke Liye Beta Nikalata Hai - Munavvar Rana

 


 सारे जहां में नहीं मिलता, बेशुमार इतना

सुकून मिलता है, मां के प्यार में जितना


Saare Jahan Me Nahi Milta, Beshumaar Itna

Sukoon Milta Hai, Maa Ke Pyaar Me Jitna




सीधा-साधा भोला-भाला ही मै सबसे अच्छा हूँ
कितना भी हो जाऊ बड़ा माँ मै आज भी तेरा बच्चा हूँ


Seedha Sadha Bhola-Bhala Hi Mai Achcha Hu

Kitna Bhi Ho Jaun Bada Maa Mai Aaj Bhi Tera Bachcha Hu




रुके तो चांद जैसी है,चले तो हवाओं जैसी है
वह मा ही है, जो धूप में भी छांव जैसी है -हैप्पी मदर्स डे


Ruke Toh Chand Jaisi Hai, Chale Toh Hawaao Jaisi Ha

Wah Maa Hi Hai, Jo Dhoop Me Bhi Chaww Jaisi Hai -Happy Mothers Day




जब भी कश्ती मिरी सैलाब में आ जाती है
माँ दुआ करती हुई ख़्वाब में आ जाती है -मुनव्वर राना

 

Jab Bhi Kashti Meri Sailaab Me Aa Jaati Hai

Maa Dua Karti Hui Khwaab Me Aa Jaati Hai - Munavvar Rana




कौन सी है वो चीज़ जो यहाँ नहीं मिलती
सब कुछ मिल जाता है लेकिन “माँ” नहीं मिलती


Kaun Si Cheez Hai Jo Yaha Nahi Milti

Sab-Kuch Mil Jaata Hai Lekin Maa Nahi Milti 




हवा दुखों की जब आई कभी ख़िज़ाँ की तरह
मुझे छुपा लिया मिट्टी ने मेरी माँ की तरह -मुनव्वर राना

 

Hawa Dukho Ki Jab Aayi Kabhi Khizaa Ki Tarah

Mujhe Chupa Liya Mitti Ne Meri Maa Ki Tarah - Munavvar Rana




सिसकियाँ उसकी न देखी गईं मुझसे ‘राना’
रो पड़ा मैं भी उसे पहली कमाई देते -मुनव्वर राना


Sisakiya Uski N Dekhi Gayi Mujhse "Rana'

Ro Pada Mai Bhi Use Pehali Kamaai Dete- Munavvar Rana




सर फिरे लोग हमें दुश्मन-ए-जाँ कहते हैं
हम जो इस मुल्क की मिट्टी को भी माँ कहते हैं -मुनव्वर राना


Sar-Fire Log Hamein Dushman-e-Za Kehate Hai

Hum Jo Is Mulk Ki Mitti Ko Bhi Maa Kehate Hai - Munavvar Rana




किसी भी ​मुश्किल का अब किसी को हल नहीं मिलता,
​शायद अब घर से कोई माँ के पैर छूकर नहीं निकलता​


Kisi Bhi Mushkil La Ab Kisi Ko Hal Nahi Milta

Shayad Ab Ghar Se Koi Maa Ke Pair Chukar Nahi Nikalata




मुझे बस इस लिए अच्छी बहार लगती है
कि ये भी माँ की तरह ख़ुशगवार लगती है -मुनव्वर राना


Mujhe Bas Is Liye Achchi Bahaar Lagti Hai

Ki Ye Bhi Maa Ki Tarah Khushgawaar Lagti Hai - Munavvar Rana




मैंने रोते हुए पोंछे थे किसी दिन आँसू
मुद्दतों माँ ने नहीं धोया दुपट्टा अपना -मुनव्वर राना


Maine Rote Huwe Ponche The Kisi Din Aansu

Mudatton Ma Ne Nahi Dhoya Dupatta Apna - Munavvar Rana




मैंने कल शब चाहतों की सब किताबें फाड़ दी,
सिर्फ एक कागज़ पर लफ्जे माँ रहने दिया -मुनव्वर राना


Maine Kal Shab Ki Chahton Ki Sab Kitaab Faad Di

Sirf Ek Kagaz Par Lagze Ma Rehane Diya - Munavvar Rana

 


ख़ुदा ने ये सिफ़त दुनिया की हर औरत को बख्शी है,​
कि वो पागल भी हो जाए तो बेटे याद रहते है​ -मुनव्वर राना


Khuda Ne Ye Sifat Duniya Ki Har Aurat Ko Bakshi Hai

Ki Wo Pagal Bhi Ho Jaaye Toh Bete Yaad Rehate Hai - Munavvar Rana




Read More - 
Mothers Day Shayari In Hindi | मदर डे पर शायरी Mothers Day Shayari In Hindi | मदर डे पर शायरी Reviewed by Feel neel on February 25, 2020 Rating: 5

7 comments:

  1. […] Mothers Day Shayari In Hindi | मदर डे पर शायरी […]

    ReplyDelete
  2. […] Mothers Day Shayari In Hindi | मदर डे पर शायरी […]

    ReplyDelete
  3. […] Mothers Day Shayari In Hindi | मदर डे पर शायरी […]

    ReplyDelete
  4. […] Mothers Day Shayari In Hindi | मदर डे पर शायरी […]

    ReplyDelete
  5. […] Mothers Day Shayari In Hindi | मदर डे पर शायरी […]

    ReplyDelete
  6. […] Mothers Day Shayari In Hindi | मदर डे पर शायरी […]

    ReplyDelete
  7. […] Mothers Day Shayari In Hindi | मदर डे पर शायरी […]

    ReplyDelete

Powered by Blogger.