Bachpan Shayari in Hindi | बचपन शायरी

 

Bachpan Shayari in Hindi | बचपन शायरी

 
Bachpan Shayari in Hindi | बचपन शायरी

झूठ बोलते थे फिर भी कितने सच्चे थे हम
ये उन दिनों की बात है जब बच्चे थे हम

 

Jhooth Bolate The Phir Bhi Kitne Sachche The Hum

Ye Un Dino Ki Baat Hai Jab Bachche The Hum




फिर से बचपन लौट रहा है शायद,
जब भी नाराज होता हूँ खाना छोड़ देता हूँ


Phir Se Bachpan Laut Raha Hai Shayad

Jab Bhi Naraaz Hota Hoon Khaana Chod Deta Hoon




चले आओ कभी टूटी हुई चूड़ी के टुकड़े से
वो बचपन की तरह फिर से मोहब्बत नाप लेते हैं

 

Chale Aao Kabhi Tooti Hui Choodi Ke Tukde Se

Wo Bachpan Ki Tarah Phir Se Mohabbat Naap Lete Hai



Bachpan Shayari in Hindi | बचपन शायरी
 

बचपन में हम ही थे या था और कोई
वहशत सी होने लगती है यादों से -अब्दुल अहद साज़

 

Bachpan Me Hum Hi The Ya Aur Koi

Wahshat Si Hone Lagti Hai Yaadon Se -Abdul Ahad Saaz




हम तो बचपन में भी अकेले थे
सिर्फ़ दिल की गली में खेले थे -जावेद अख़्तर


Hum Toh Bachpan Me Bhi Akele The

Sirf Dil Ki Gali Me Khele The -Javed Akhtar




अब तो एक आंसू भी बर्दाश्त नहीं होता
और बचपन में जी भरकर रोया करते थे

 

Ab Toh Ek Aansu Bhi Bardaast Nahi Hota

Aur Bachpan Me Ji Bharkar Roya Karte The




Bachpan Shayari in Hindi | बचपन शायरी
 

बचपन में तो शामें भी हुआ करती थी
अब तो बस सुबह के बाद रात हो जाती है

 

Bachpan Me Toh Shamein Bhi Hua Karti Thi

Ab Toh Bas Subah Ke Baad Raat Ho Jaati Hai




मोहल्ले में अब रहता है, पानी भी हरदम उदास
सुना है पानी में नाव चलाने वाले बच्चे अब बड़े हो गए


Mohalle Me Ab Rehata Hai. Paani Bhi Hardum Udaas

Suna Hai Paani Me Naaw Chalane Waale Bachche Ab Bade Ho Gaye




Bachpan Shayari in Hindi | बचपन शायरी


Bachpan Shayari in Hindi | बचपन शायरी

एक हाथी एक राजा एक रानी के बग़ैर
नींद बच्चों को नहीं आती कहानी के बग़ैर -मक़सूद बस्तवी


Ek Haathi Ek Raja Ek Rani Ke Bagair

Nind Bachcho Ko Nahi Aati Kahani Ke Bagair -Maksood Bastavi




Bachpan Shayari in Hindi | बचपन शायरी

 

 ज्यादा कुछ नही बदलता उम्र बढने के साथ,
 बचपन की जिद समझौतों मे बदल जाती है

 

Jyada Kuch Nahi Badalata Umr Badhne Ke Sath

Bachpan Ki Zad Samjhauton Me Badal Jaati Hai




Bachpan Shayari in Hindi | बचपन शायरी
 

बचपन भी कमाल का था
खेलते खेलते चाहें छत पर सोयें
या ज़मीन पर आँख बिस्तर पर ही खुलती थी

 

Bachpan Bhi Kamaal Ka Tha

Khelte-Khelte Chahe Chat Par Soye

Ya Zameen Par Aankh Bistar Par Hi Khulti Thi




 ज्यादा कुछ नही बदलता उम्र बढने के साथ,
 बचपन की जिद समझौतों मे बदल जाती है


Jyada Kuch Nahi Badalata Umr Badhne Ke Sath

Bachpan Ki Zad Samjhauton Me Badal Jaati Hai




Bachpan Shayari in Hindi | बचपन शायरी
 

कौन कहे मासूम हमारा बचपन था
खेल में भी तो आधा आधा आँगन था-शारिक़ कैफ़ी

 

Kaun Kahe Masoom Hmara Bachpan Tha

Khel Me Bhi Toh Aadha-Aadha Angan Tha -Sharik Kaifi




बचपन से हर शख्स याद करना सिखाता रहा,
भूलते कैसे है ? बताया नही किसी ने

 

Bachpan Se Har Shakhs Yaad Karna Seekhata Raha

Bhoolate Kaise Hai, Bataya Nahi Kisi Ne




Bachpan Shayari in Hindi | बचपन शायरी
 

अजीब सौदागर है ये वक़्त भी
जवानी का लालच दे के बचपन ले गया\

 

Ajeeb Saudagar Hai Ye Wakt Bhi

Jawani Ka Lalach De Ke Bachpan Le Gaya




किसने कहा नहीं आती वो बचपन वाली बारिश,
तुम भूल गए हो शायद अब नाव बनानी कागज़ की


Kisane Kaha Nahi Aati Wo Bachpan Waali Barish

Tum Bhool Gaye Ho Shayad Ab Naaw Banani Kagaz Ki




Bachpan Shayari in Hindi | बचपन शायरी

ये ज़िंदगी कुछ भी हो मगर अपने लिए तो
कुछ भी नहीं बच्चों की शरारत के अलावा -अब्बास ताबिश


Ye Zindagi Kuch Bhi Ho Magar Apne Liye Toh

Kuch Bhi Nahi Bachcho Ki Shararat Ke Alaava -Abbas Tabish




Bachpan Shayari in Hindi | बचपन शायरी

 

बचपन के खिलौने सा कहीं छुपा लूँ तुम्हें,
आँसू बहाऊँ, पाँव पटकूँ और पा लूँ तुम्हें

 

Bachpan Ke Khilaune Sa Kahin Chupa Lu Tumhe

Aansu Bahaun, Paaw Patku Aur Pa Lu Tumhe



Bachpan Shayari in Hindi | बचपन शायरी
 

कहाँ आ गए इस समझदारी के दलदल में,
वो नादान बचपन भी कितना प्यारा था।

 

Kahan Aa Gaye Is Samajhdaari Ke Daldal Me

Wo Nadaan Bachpan Bhi Kitna Pyaara Tha




कोई मुझको लौटा दे वो बचपन का सावन
वो कागज की कश्ती वो बारिश का पानी


Koi Mujhko Lauta De Wo Bachpan Ka Savan

Wo Kagaz Ki Kashti Wo Barish Ka Paani




Bachpan Shayari in Hindi | बचपन शायरी
 

किताबों से निकल कर तितलियाँ ग़ज़लें सुनाती हैं
टिफ़िन रखती है मेरी माँ तो बस्ता मुस्कुराता है -सिराज फ़ैसल ख़ान


Kitaabon Se Nikalkar Titaliyaan Sunaati Hai

Tiffin Rakhti Hai Meri Maa Toh Basta Muskuraata Hai-Siraaj Faisal Khan



 

कितना आसान था बचपन में सुलाना हम को,
 नींद आ जाती थी परियों की कहानी सुन कर


Kitna Aasaan Tha Bachpan Me Sulaana Hum Ko

Nind Aa Jaati Thi Parion Ki Kahani Sun Kar




Bachpan Shayari in Hindi | बचपन शायरी
 

 बचपन में भरी दुपहरी नाप आते थे पूरा गाँव,
 जब से डिग्रियाँ समझ में आई, पाँव जलने लगे

 

Bachpan Me Bhari Dupahari Naap Aate The Poora Gaon

Jab Se Deegriyaan Samajh Aayi, Paaw Jalne Lage




बच्चों के छोटे हाथों को चाँद सितारे छूने दो
चार किताबें पढ़ कर ये भी हम जैसे हो जाएँगे -निदा फ़ाज़ली


Bachcho Ke Chote Hathon Ko Chand Sitaare Choone Do

Chaar Kitaabein Padh Kar Ye Bhi Hum Jaise Ho Jayenge -Nida Fazli




Bachpan Shayari in Hindi | बचपन शायरी
 

सुकून की बात मत कर ऐ दोस्त
बचपन वाला इतवार अब नहीं आता

 

Sukoon Ki Baat Mat Kar Ae Dost

Bachpan Waala Itwaar Ab Nahi Aata




Shayari On Bachpan

 

मुझे फिर से थमा दे ओ माँ, वही मेरे स्कूल का बैग
अब मुझे और नहीं सहा जाता, इस जिन्दगी का भारी बोझ


Mujhe Phir Se Thama De O Maa, Wahi Mere School Ka Baig

Ab Mujhe Aur Nahi Saha Jaata, Is Zindagi Ka Bhaari Bojh





Bachpan Shayari in Hindi | बचपन शायरी
 

उड़ने दो परिंदों को अभी शोख़ हवा में
फिर लौट के बचपन के ज़माने नहीं आते -बशीर बद्र

 

Udane Do Parindo Ko Abhi Shokh Hawa Me

Phir Laut Ke Bachpan Ke Zamane Nahi Aate-Bashir Badr




मेरा बचपन भी साथ ले आया
गाँव से जब भी आ गया कोई -कैफ़ी आज़मी

 

Mera Bachpan Bhi Sath Le Aaya

Gaon Se Jab Bhi Aa Gaya Koi -Kaifi Aazami




Bachpan Shayari in Hindi | बचपन शायरी
 

चलो के आज बचपन का कोई खेल खेलें,
बडी मुद्दत हुई बेवजह हँसकर नही देखा

 

Chalo Ke Aaj Bachpan Ka Koi Koi Khel Khelein

Badi Muddat Hui Bewajah Haskar Nahi Dekha




Bachpan Ki Yaadein Shayari

 

खुदा अबके जो मेरी कहानी लिखना
बचपन में ही मर जाऊ ऐसी जिंदगानी लिखना


Khuda Abke Jo Meri Kahani Likhna

Bachpan Me Hi Mar Jaun Aisi Zindagaani Likhna




ना कुछ पाने की आशा ना कुछ खोने का डर
बस अपनी ही धुन, बस अपने सपनो का घर


Na Kuch Paane Ki Aasha Na Kuch Khone Ka Darr

Bas Apni Dhun, Bas Apne Sapno Ka Ghar




Bachpan Shayari in Hindi | बचपन शायरी
 

जिंदगी फिर कभी न मुस्कुराई बचपन की तरह,
मैंने मिट्टी भी जमा की खिलोने भी लेकर देखे।

 

Zindagi Phir Kabhi N Muskuraayi Bachpan Ki Tarah

Maine Mitti Bhi Zama Ki Khilaune Bhi Lekar Dekhe




वो बचपन की अमीरी न जाने कहां खो गई

जब पानी में हमारे भी जहाज चलते थे


Wo Bachpan Ki Ameeri N Jaane Kahan Kho Gayi

Jab Paani Me Hamare Bhi Jahaj Chalte The




Bachpan Shayari in Hindi | बचपन शायरी
 

आजकल आम भी पेड़ से खुद गिरके टूट जाया करते हैं
 छुप छुप के इन्हें तोड़ने वाला अब बचपन नहीं रहा

 

Aajkal Aam Bhi Ped Se Khud Girke Toot Jaaya Karte Hai

Chup-Chup Ke Inhe Todne Waala Ab Bachpan Nahi Raha




Bachpan Ka Pyaar Shayari

 

कितने खुबसूरत हुआ करते थे बचपन के वो दिन,
सिर्फ दो उंगलिया जुड़ने से, दोस्ती फिर से शुरु हो जाया करती थी।


Kitne Khoobsurat Hua Karte The Bachpan Ke Wo Din

Sirf Do Ungaliyaan Judane Se, Dosti Phir Se Shuru Ho Jaaya Karti Thi




Bachpan Shayari in Hindi | बचपन शायरी
 

जो सपने हमने बोए थे नीम की ठंडी छाँवों में,
कुछ पनघट पर छूट गए,कुछ काग़ज़ की नावों में

 

Jo Sapne Hamne Boye The Neem Ki Thandi Chaaw Me

Kuch Panghat Par Choot Gaye, Kuch Kagaz Ki Naawo Me




बचपन के दिन भी कितने अच्छे होते थे
तब दिल नहीं सिर्फ खिलौने टूटा करते थे


Bachpan Ke Din Bhi Kitne Achche Hote The

Tab Dil Nahi Sirf Khilaune Tuta Karte The




Read More - 

Bachpan Shayari in Hindi | बचपन शायरी Bachpan Shayari in Hindi | बचपन शायरी Reviewed by Feel neel on March 24, 2020 Rating: 5

2 comments:

Powered by Blogger.