Maa Shayari In Hindi | माँ हिंदी शायरी

 

Maa Shayari In Hindi | माँ हिंदी शायरी


मेरी तक़दीर में कभी कोई गम नही होता,
अगर तक़दीर लिखने का हक़ मेरी माँ को होता
 
Meri Takdeer Me Kabhi Koi Gum Nahi Hota

Agar Takdeer Likhne Ka Haq Meri Maa Ko Hota 
 
ये मेरी माँ की दुआओ का फ़ैज़ है मुझ पर,
मैं डूबता हूँ तो समंदर उछाल देता है
 
Ye Meri Maa Ki Duwaao Ka Faiz Hai Mujh Par

Mai Doobata Hoon Toh Samadar Uchaal Deta Hai 
 
रब हर एक माँ को सलामत रखना वरना

हमारे लिए दिल से दुआ कौन करेगा
 
Rab Har Ek Maa Ko Salamat Rakhna Varna

Hamare Liye Dil Se Dua Karega Kaun
 
माँ की अजमत से अच्छा जाम क्या होगा,
माँ की खिदमत से अच्छा काम क्या होगा
 
Maa Ki Ajamat Se Achcha Jaam Kya Hoga

Maa Khidmat Se Achcha Kaam Kya Hoga
 
वो लिखा के लायी है किस्मत में जागना,
माँ कैसे सो सकेगी कि बेटा सफ़र में है
 
Wo Likha Ke Laayi Hai Kismat Me Jagana

Maa Kaisi So Sakegi Ki Beta Safar Me Hai
 
पहाड़ो जैसे सदमे झेलती है उम्र भर लेकिन,
इक औलाद की तकलीफ़ से माँ टूट जाती है
 
Pahadon Jaise Sadme Jhelati Hai Umr Bhar Lekin

Ik Aulaad Ki Takleef Se Maa Toot Jaati Hai

Shayari On Maa


एक माँ सबकी जगह ले सकती है

लेकिन एक माँ की जगह कोई नहीं ले सकता
 
Ek Maa Sabki Jagah Le Sakti Hai

Lekin Ek Maa Ki Jagah Koi Nahi Le Sakta
 
यूँ तो मैंने बुलन्दियों के हर निशान को छुआ,
जब माँ ने गोद में उठाया तो आसमान को छुआ
 
Yun Toh Maine Bulandiyon Ke Har Nisaan Ko Chuwa

Jab Maa Ne God Me Uthaya Toh Aasmaan Ko Chuwaa
 
कल माँ की गोद में, आज मौत की आग़ोश में,
हमको दुनिया में ये दो वक़्त बड़े सुहाने से मिले
 
Kal Maa Ki God Me, Aaj Maut Ki Aagosh Me

Humko Duniya Me Ye Do Wakt Bade Suhaane Se Mile
 
भूल जाता हूँ परेशानियां ज़िंदगी की सारी,
माँ अपनी गोद में जब मेरा सर रख लेती है
 
Bhool Jaata Hoon Pareshaniya Zindagi Ki Saari

Maa Apni Gond Me Jab Mera Sar Rakh Leti Hai
 
हम खुशियों में भले ही भूल जाए माँ को

लेकिन जब मुसीबत आती है तो याद आती है माँ
 
Hum Khusiyon Me Bhale Hi Bhool Jaaye Maa Ko

Lekin Jab Musibat Aati Hai Toh Yaad Aati Hai Maa
 
वह माँ ही है जिसके रहते जिंदगी में कोई गम नहीं होता

दुनिया साथ दे या ना दे पर माँ का प्यार कभी कम नहीं होता
 
Wah Maa Hi Hai Jiske Rehate Zindagi Me Koi Gum Nahi Hota

Duniya Sath De Ya Na De Par Maa Ka Pyaar Kabhi Kam Nahi Hota
 

Maa Baap Ki Shayari


मैं रात भर जन्नत की सैर करता रहा दोस्तो,
आँख खुली तो देखा मेरा सर माँ के गोद में था
 
Mai Raat Bhar Jannat Ki Sair Karta Raha Doston

Aankh Khuli Toh Dekha Mera Sar Maa Ke God Me Tha
 
हमारी तकदीर में एक भी गम ना होता

अगर तकदीर लिखने का हक हमारी माँ को दिया होता
 
Hamari Takdeer Me Ek Bhi Gum Na Hota

Agar Takdeer Likhne Ka Haq Hamari Maa Ko Diya Hota
 
लबों पे उसके कभी बद्दुआ नहीं होती
बस एक मां है जो मुझसे ख़फ़ा नहीं होती
 
Labon Pe Uske Kabhi Baddua Nahi Hoti

Bas Ek Maa Hai Jo Mujhse Khafa Nahi Hoti
 
Maa Shayari In Hindi | माँ हिंदी शायरी

मुझे बस इस लिए अच्छी बहार लगती है,
कि ये भी माँ की तरह ख़ुशगवार लगती है
 
Mujhe Bas Is Liye Achchi Bahaar Lagti Hai

Ki Ye Bhi Maa Ki Tarah Khushgawaar Lagti Hai

चलती हुई हवाओ से खुशबू महक उठी है,
माँ-बाप की दुआओं से किस्मत चमक उठी है
 
Chalti Hui Hawaon Se Khusbu Mehak Uthi Hai

Maa-Baap Ki Duwaaon Se Kismat Chamak Uthi Hai

हजारों गम हो जिंदगी में फिर भी खुशी से फूल जाता हूं

मैं जब हंसती है मेरी मां मैं हर गम भूल जाता हूं
 
Hazaron Gum Ho Zindagi Me Phir Bhi Khushi Se Phool Jaata Hoon

Mai Jab Hasti Hai Meri Maa Mai Har Gum Bhool Jaata Hoon
 

Maa Shayari In Hindi | माँ हिंदी शायरी

 
भेजे गए फ़रिश्ते हमारे बचाव को,
जब हुआ हादसात माँ की दुआ से उलझ पड़े
 
Bheje Gaye Farishte Hamare Bachaaw Me

Jab Hua Haadsaat Maa Ki Dua Se Ulajh Pade
 
ठुकरा दिया जिंदगी ने उनको जिन्होंने मां बाप को धोखा दिया

भगवान तो नहीं मगर माँ बाप ने उन्हें हजार मौका दिया
 
Thukra Diya Zindagi Ne Unko Jinhone Maa-Baap Ko Dhokha Diya

Bhagwaan Toh Nahi Magar Maa-Baap Ne Unhe Hazaar Mauka Diya
 
मैंने कल शब चाहतों की सब किताबें फाड़ दीं,
सिर्फ़ इक काग़ज़ पे लिक्खा लफ़्ज़-ए-माँ रहने दिया
 
Miane Kal Shab Chahaton Ki Sab Kitaabein Faad Di

Sirf Ik Kagaz Pe Likkha Lafz-e-Maa Rehane Diya
 

Maa Baap Shayari


बलाएं आकर भी मेरी चौखट से लौट जाती हैं,
मेरी माँ की दुआएं भी कितना असर रखती हैं
 
Balayein Aakar Bhi Meri Chaukhat Se Laut Jaati Hai

Meri Maa Ki Duaayein Bhi Kitna Asar Rakhti Hai
 
एक मुद्दत से मेरी माँ नहीं सोई
मैंने इक बार कहा था मुझे डर लगता है
 
Ek Muddat Se Meri Maa Nahi Soyi

Maine Ek Baar Kaha Tha Mujhe Darr Lagta Hai
 
गिन लेती है दिन बगैर मेरे गुजारें हैं कितने,
भला कैसे कह दूं कि माँ अनपढ़ है मेरी
 
Gin Leti Hai Din Bagair Mere Gujare Hai Kitne

Bhala Kaise Kah Du Ki Maa Anpadh Hai Meri
 
शायद यूँ ही सिमट सकें घर की ज़रूरतें,
‘तनवीर’ माँ के हाथ में अपनी कमाई दे
 
Shayad Yun Hi Simat Sake Ghar Ki Jaruratein

"Tanveer" Maa Ke Hath Me Apni Kamaayi Dete

कदम जब चूम ले मंज़िल तो जज़्बा मुस्कुराता है,
दुआ लेकर चलो माँ की तो रस्ता मुस्कुराता है
 
Kadam Choom Le Manzil Toh Zajba Muskuraata Hai

Dua Lekar Chalo Maa Ki To Rasta Muskurata Hai
 

Maa Ki Shayari


वो उजला हो के मैला हो या मँहगा हो के सस्ता हो,
ये माँ का सर है इस पे हर दुपट्टा मुस्कुराता है
 
Wo Ujla Ho Ke Maila Ho Ya Mehanga Ho Ke Sasta Ho

Ye Maa Ka Sar Hai Is Pe Har Dupatta Muskurata Hai
 

Maa Shayari In Hindi | माँ हिंदी शायरी


मुझे कढ़े हुए तकिये की क्या ज़रूरत है,
किसी का हाथ अभी मेरे सर के नीचे है
 
Mujhe Kadhe Hue Takiye Ki Jarurat Kya Hai

Kisi Ka Hath Abhi Mere Sar Ke Neeche Hai
 
हादसों की गर्द से... ख़ुद को बचाने के लिए,
माँ हम अपने साथ बस तेरी दुआ ले जायेंगे

Haadason Ki Gard Se... Khud Ko Bachaane Ke Liye

Maa Hum Apne Sath Bas Teri Dua Le Jayenge
 
जिसके होने से मैं खुद को मुक्कम्मल मानता हूँ,
मेरे रब के बाद मैं बस अपनी माँ को जानता हूँ
 
Jinke Hone Se Mai Khud Ko Mukammal Manata Hu

Mere Rab Mere Baad Mai Bas Apni Maa Ko Jaanata Hu
 

इस तरह मेरे गुनाहों को वो धो देती है,
माँ बहुत ग़ुस्से में होती है तो रो देती है
 
Is Tarah Mere Gunahon Ko Wo Dho Deti Hai

Maa Bahut Gusse Me Hoti Hai Toh Ro Deti Hai

Maa Ke Liye Shayari


शहर में आकर पढ़ने वाले ये भूल गए,
किस की माँ ने कितना ज़ेवर बेचा था
 
Shehar Me Aakar Padhne Waale Ye Bhool Gaye

Kis Ki Maa Ne Kitna Jevar Becha Tha

उमर भर तेरी मोहब्बत मेरी खिदमतगर रही माँ,
मैं तेरी खिदमत के काबिल जब हुआ तू चली गयी माँ

Umar Bhar Teri Mohabbat Me Khidmatgar Rahi Maa

Mai Teri Khidmat Ke Kaabil Jab Hua Tu Chali Gayi Maa

दिल तोड़ना कभी नहीं आया मुझे,
प्यार करना जो सीखा है माँ से

Dil Todna Kabhi Nahi Aaya Mujhe

Pyaar Karna Jo Seekha Hai Maa Se
 
सख्त राहों में भी आसान सफ़र लगता है,
ये मेरी माँ की दुआओं का असर लगता है
 
Sakht Raahon Me Bhi Aasaan Safar Lagta Hai

Ye Meri Maa Ki Duaon Ka Asar Lagta Hai

नींद भी भला इन आँखों में कहाँ आती है,
एक अर्से से मैंने अपनी माँ को नहीं देखा
 
Nind Bhi Bhala In Aankho Me Kaha Aati Hai

Ek Arse Se Maine Apni Ma Ko Nahi Dekha
 
जब भी देखा मेरे किरदार पे धब्बा कोई,
देर तक बैठ के तन्हाई में रोया कोई
 
Jab Bhi Dekha Mere Kirdaar Pe Dhabba Koi

Der Tak Baith Ke Tanhaai Me Roya Koi
 
जब भी कश्ती मेरी सैलाब में आ जाती है,
माँ दुआ करती हुई ख्वाब में आ जाती है
 
Jab Bhi Kashti Meri Sailaab Me Aa Jaati Hai

Maa Dua Karti Hui Khwaab Me Aa Jaati Hai

Maa Shayari In Hindi | माँ हिंदी शायरी

Maa Shayari Images


यूं ही नहीं गूंजती किलकारियां‬ घर आँगन‬ के कोने में,
जान ‎हथेली‬ पर रखनी‪ पड़ती है "माँ" को "‪माँ‬" होने में

Yun Hi Nahi Goonjati Kilkaariyan Ghar Angan Ke Kone Me

Jaan Hatheli Par Rakhni Padti Hai Ma Ko Ma Hone Me
 
कुछ नहीं होगा तो आँचल में छुपा लेगी मुझे,
माँ ! कभी सर पे खुली छत नहीं रहने देगी
 
Kuch Nahi Hoga Toh Aanchal Me Chupa Legi Mujhe

Maa Kabhi Sar Pe Khuli Chat Nahi Rehane Degi
 
दुआएँ माँ की पहुँचाने को मीलों मील जाती हैं,
कि जब परदेस जाने के लिए बेटा निकलता है
 
Duaayein Maa Ki Pahuchaane Ko Meelon Meel Jaati Hai

Ki Jab Pardesh Jaane Ke Liye Beta Nikalata Hai
 
ए मुसीबत जरा सोच के आ मेरे करीब,
कही मेरी माँ की दुआ तेरे लिए मुसीबत ना बन जाये
 
Ae Musibat Zara Soch Ke Aa Mere Kareeb

Kahin Meri Maa Ki Dua Tere Liye Musibat Na Ban Jaaye

दिन भर की मशक़्क़त से बदन चूर है लेकिन
माँ ने मुझे देखा तो थकान भूल गयी अपनी
 
Din Bhar Ki Masakkat Se Badan Choor Hai Lekin

Maa Ne Mujhe Dekha To Thakaan Bhool Gayi Apni
 
कौन सी है वो चीज़ जो यहाँ नहीं मिलती,
सब कुछ मिल जाता है पर माँ नहीं मिलती
 
Kaun Si Hai Wo Cheez Jo Yahan Nahi Milti

Sab-Kuch Mil Jaata Hai Par Maa Nahi Milti
 
जब जब कागज पर लिखा, मैने "माँ" का नाम,
कलम अदब से बोल उठी, हो गये चारो धाम
 
Jab-Jab Kagaz Par Likha, Maine "Maa" Ka Naam

Kalam Adab Se Bol Uthi, Ho Gaye Chaaro Dhaam

Maa Par Shayari


ऊपर जिसका अंत नहीं उसे आसमां कहते हैं,
इस जहाँ में जिसका अंत नहीं उसे "माँ" कहते हैं
 
Upar Jiska Ant Nahi Use Aasmaa Kehate Hai

Is Jahan Me Jiska Ant Nahi Use Maa Kehate Hai

पहले ये काम बड़े प्यार से माँ करती थी,
अब हमें धूप जगाती है तो दुःख होता है

Pehale Ye Kaam Bade Pyaar Se Maa Karti Thi

Ab Hamein Dhoop Jagaati Hai Toh Dukh Hota Hai
 
ये ऐसा क़र्ज़ है जो मैं अदा कर ही नहीं सकता,
मैं जब तक घर न लौटूं, मेरी माँ सज़दे में रहती है
 
Ye Aisa Karz Hai Jo Mai Ada Kar Hi Nahi Sakta

Mai Jab Tak Ghar Na Lautu, Meri Maa Sazde Me Rehati Hai

माँ की अजमत से अच्छा जाम क्या होगा,
माँ की खिदमत से अच्छा काम क्या होगा
 
Maa Ki Ajamat Se Achcha Jaam Kya Hoga

Maa Khidmat Se Achcha Kaam Kya Hoga
 
तेरी डिब्बे की वो दो रोटिया कही बिकती नहीं
माँ महगे होटलों में आज भी भूख मिटती नहीं
 
Teri Dibbe Ki Wo Do Rotiyaan Kahi Bikti Nahi

Maa Mehange Hotelon Me Aaj Bhi Bhookh Mitati Nahi

नादान हो जो उम्र गँवाते हो वफा की तलाश में,
गर जो आए समझ तो माँ की गोद में जाकर देखो
 
Nadaan Ho Jo Umr Gawaate Ho Wafa Ki Talash Me

Gr Jo Samajh Aaye Toh Maa Ki God Me Jakar Dekho
 

Maa Shayari In Hindi | माँ हिंदी शायरी


ना जाने माँ क्या मिलाया करती हैं आटे में
ये घर जैसी रोटियाँ और कहीं मिलती नहीं
 
Naa Jaane Maa Kya Milaaya Karti Hai Aate Me

Ye Ghar Ki Rotiyaan Aur Kahi Milti Nahi
 
चलती फिरती आँखों से अज़ाँ देखी है,
मैंने जन्नत तो नहीं देखी है माँ देखी है
 
Chalti Firati Aankho Se Ajaa Dekhi Hai

Maine Jannat Toh Nahi Dekhi Hai Maa Dekhi Hai
 
माँ तेरे दूध का हक़ मुझसे अदा क्या होगा
तू है नाराज तो खुश मुझसे खुदा क्या होगा
 
Maa Tere Doodh Ka Karz Mujhse Ada Kya Hoga

Tu Hai Naraaz Toh Khush Mujhse Khuda Kya Hoga



Read More - 
Maa Shayari In Hindi | माँ हिंदी शायरी Maa Shayari In Hindi | माँ हिंदी शायरी Reviewed by Feel neel on March 31, 2020 Rating: 5

2 comments:

Powered by Blogger.