Nafrat Shayari In Hindi | नफरत शायरी इन हिंदी

 

Nafrat Shayari In Hindi | नफरत शायरी इन हिंदी


वो नफरतें पाले रहे हम प्यार निभाते रहे,
लो ये जिंदगी भी कट गयी खाली हाथ सी
 
Wo Nafaratein Paale Rahe Hum Pyaar Nibhaate Rahe

Lo Ye Zindagi Bhi Kat Gayi Khaali Hath Si

देखकर उसको तेरा यूँ पलट जाना,
नफरत बता रही है तूने इश्क बेमिसाल किया था

DekhKar Usko Tera Yun Palat Jaana

Nafrat Bata Rahi Hai Tune Ishq Be-Misaal Kiya Tha
 
न मोहब्बत संभाली गई, न नफरतें पाली गईं,
अफसोस है उस जिंदगी का, जो तेरे पीछे खाली गई
 
N Mohabbat Sambhaali Gayi, N Nafratein Paali Gayi

Afsos Hai Us Zindagi Ka, Jo Tere Peeche Khaali Gayi
 
एक नफरत ही है जिसे दुनिया चंद लम्हों में जान लेती है, वरना
चाहत का यकीन दिलाने में तो ज़िन्दगी बीत जाती है
 
Ek Nafrat Hi Hai Jise Duniya Chand Lamho Me Jaan Leti Hai Varna

Chahat Ka Yakeen Dilaane Me Toh Zindagi Beet Jaati Hai
 
नफरत करने वाले भी गज़ब का प्यार करते हैं,
जब भी मिलते है कहते हैं कि तुझे छोड़ेंगे नहीं
 
Nafrat Karne Waale Bhi Gajab Ka Pyaar Karte Hai

Jab Bhi Milte Hai Kehate Hai Ki Tujhe Chodenge Nahi

तुम नफरत का धरना कयामत तक जारी रखो,
मैं प्यार का इस्तीफा जिंदगी भर नहीं दूंगा

Tum Nafrat Ka Dharna Qayamat Tak Jaari Rakho

Mai Pyaar Ka Isteefa Zindagi Bhar Nahi Dunga
 
अदावत तो है अपनी नफरतों के रहनुमाओं से

जो दिल में दे जगह उससे भला न क्यूँ सुलह कर लें
 
Adawat Toh Hai Apni Nafraton Ke Rehnumaaon Se

Jo Dil Me De Jagah Usase Bhala N Kyu Sulah Kar Le

Nafrat Shayari In Hindi | नफरत शायरी इन हिंदी

Pyar Se Nafrat Shayari


महोब्बत और नफरत सब मिल चुके हैं मुझे,
मैं अब तकरीबन मुकम्मल हो चुका हूँ
 
Mohabbat Aur Nafrat Sab Mil Chuke Hai Mujhe

Mai Ab Takriban Muqammal Ho Chuka Hu

नफ़रत हो जायेगी तुझे अपने ही किरदार से,
अगर मैं तेरे ही अंदाज में तुझसे बात करुं
 
Nafrat Ho Jayegi Tujhe Apni Hi Kirdaar Se

Agar Mai Tere Hi Andaaz Me Tujhse Baat Karu

जब करते हो मुझसे इतनी नफरत तो क्यों,
सजाते हो आँखो में मुझे काजल की तरह
 
Jab Karte Ho Mujhse Itni Nafrat To Kyo

Sajaate Ho Aankho Me Mujhe Kajal Ki Tarah

एहसास बदल जाते हैं बस और कुछ नहीं,
वरना नफरत और मोहब्बत एक ही दिल में होती है
 
Ehsaas Badal Jaate Hai Bas Aur Kuch Nahi

Varna Nafrat Aur Mohabbat Ek Hi Dil Me Hoti Hai

तेरी नफरतों को प्यार की खुशबु बना देता,
मेरे बस में अगर होता तुझे उर्दू सीखा देता

Teri Nafraton Ko Pyaar Ki Khusbu Bana Deta

Mere Bas Me Agar Hota Tujhe Urdu Sikha Deta -Waseem Barelavi
 
है शादाब नफ़रत का जंगल बहुत ही

मोहब्बत का हर पेड़ सूखा पड़ा है
 
Hai Shadaab Nafrat Ka Jangal Bahut Hi

Mohabbat Ka Har Ped Sookha Pada Hai
 
तेरी नफरतों को प्यार की खुशबु बना देता,
मेरे बस में अगर होता तुझे उर्दू सिखा देता
 
Teri Nafaron Ko Pyaar  Ki Khusbu Bana Deta

Mere Bas Me Agar Hota Tujhe Urdu Sikha Deta
 

Nafrat Shayari In Hindi | नफरत शायरी इन हिंदी

 
दिलों में गर पली बेजान कोई हसरत नहीं होती,
हम इंसानों को इंसानों से यूँ नफरत नहीं होती
 
Dilon Me Gr Pali Bejaan Koi Hasrat Nahi Hoti

Hum Insaano Ko Insaano Se Yun Nafrat Nahi Hoti

वो दुश्मन बनकर मुझे जीतने निकले थे

मुहब्बत कर लेते मै खुद ही हार जाता

Wo Dushman Bankar Mujhe Jeetane Nikle The

Mohabbat Kar Lete Mai Khud Hi Haar Jaata
 
तुझे प्यार भी तेरी औकात से ज्यादा किया था,
अब बात नफरत की है तो नफरत ही सही

Tujhe Pyaar Bhi Teri Aukaat Se Jyada Kiya Tha

Ab Baat Nafrat Ki Hai Toh Nafrat Hi Sahi

Nafrat Bhari Shayari

 
मोहब्बत करने से फुरसत नहीं मिली दोस्तो
वरना हम करके बताते नफरत किसको कहते हैं

Mohabbat Karne Se Fursat Nahi Mili Doston

Varna Hum Karke Bataate Nafrat Kisko Kehate Hai

तुझे प्यार भी तेरी औकात से ज्यादा किया था,
अब बात नफरत की है तो नफरत ही सही

Tujhe Pyaar Bhi Teri Aukaat Se Jyada Kiya Tha

Ab Baat Nafrat Ki Hai Toh Nafrat Hi Sahi
 
कुछ जुदा सा है मेरे महबूब का अंदाज,
नजर भी मुझ पर है और नफरत भी मुझसे ही
 
Kuch Juda Sa Hai Mere Mehboob Ka Andaaz

Nazar Bhi Mujh Par Hai Aur Nafrat Bhi Mujhse Hi
 
कुछ इस अदा से निभाना है किरदार मेरा मुझको,
जिन्हें मुहब्बत ना हो मुझसे वो नफरत भी ना कर सके
 
Kuch Is Ada Se Nibhaan Hai Kirdaar Mera Mujhko

Jinhe Mohabbat Na Ho Mujhse Wo Nafrat Bhi Na Kar Sake
 
क़त्ल तो लाजिम है इस बेवफा शहर में,
जिसे देखो दिल में नफरत लिये फिरता है
 
Katl Toh Laajim Hai Is Bewafa Shehar Me

Jise Dekho Dil Me Nafrat Liye Firta Hai
 
मत रख इतनी नफ़रतें अपने दिल में ए इंसान,
जिस दिल में नफरत होती है उस दिल में रब नहीं बसता
 
Mat Rakh Itni Nafratein Apne Dil Me Ae Insaan

Jis Dil Me Nafrat Hoti Hai Us Dil Me Rab Nahi Basta
 
हमें बरबाद करना है तो हमसे प्यार करो,
नफरत करोगे तो खुद बरबाद हो जाओगे
 
Hamein Barbaad Karna Hai Toh Hamse Pyaar Karo

Nafrat Karoge Toh Khud Barbaad Ho Jaaoge
 

Nafrat Shayari For Girlfriend


जब नफरत करते करते थक जाओ,
तब एक मौका प्यार को भी देना
 
Jab Nafrat Karte-Karte Thak Jaao

Tab Ek Mauka Pyaar Ko Bhi Dena
 
वो नफरतें पाले रहे हम प्यार निभाते रहे,
लो ये जिंदगी भी कट गयी खाली हाथ सी
 
Wo Nafratein Paale Rahe Hum Pyaar Nibhaate Rahe

Lo Ye Zindagi Bhi Kat Gayi Khaali Haath Si

ज्यादा कुछ नहीं बदला, उनके और मेरे बीच में,
पहले नफरत नहीं थी, अब मोहब्बत नहीं हैं
 
Jyada Kuch Nahi Badla, Unke Aue Mere Beech

Pahle Nafrat Nahi Thi, Ab Mohabbat Nahi Hai

लेकर के मेरा नाम वो मुझे कोसता है,
नफरत ही सही पर वो मुझे सोचता तो है
 
Lekar Ke Mera Naam Wo Mujhe Kosata Hai

Nafrat Hi  Sahi Par Wo Mujhe Sochta Toh Hai
 
हाँ मुझे रस्म-ए-मोहब्बत का सलीक़ा ही नहीं,
जा किसी और का होने की इजाज़त है तुझे
 
Ha Mujhe Rasm-e-Mohabbat Ka Saleeka Hi Nahi

Ja Kisi Aur Ka Hone Ki Ijazat Hai Tujhe
 

Nafrat Shayari For Boyfriend

 
नफ़रत हो जायेगी तुझे अपने ही किरदार से,
अगर मैं तेरे ही अंदाज में तुझसे बात करुं
 
Nafrat Ho Jayegi Tujhe Apne Hi Kirdaar Se

Agar Mai Tere Hi Andaaz Me Tujhse Baat Karu
 
फिर यूँ हुआ के गैर को दिल से लगा लिया,
अंदर वो नफरतें थी के बाहर के हो गये
 
Phir Yun Hua Ki Gair Ko Dil Se Laga Liya

Andar Wo Nafratein Thi Ke Bahar Ke Ho Gaye
 
वो वक़्त गुजर गया जब मुझे तेरी आरज़ू थी,
अब तू खुदा भी बन जाए तो मैं सज़दा न करूँ
 
Wo Wakt Guzar Gaya Jab Mujhe Meri Aarju Thi

Ab Tu Khuda Bhi Ban Jaaye Toh Mai Sazada N Karu
 
नफरतों के बाजार में प्यार बेचते है,
और कीमत में बस दुआ लेते है

Nafaraton Ke Bazaar Me Pyaar Bechate Hai

Aur Keemat Me Bas Dua Lete Hai

देख कर उसको तेरा यूँ पलट जाना,
नफरत बता रही है तूने मोहब्बत गज़ब की की थी
 
Dekh Kar Usko Tera Yun Palat Jaana

Nafrat Bata Rahi Hai, Tune Mohabbat Gajab Ki Ki Thi
 
बैठ कर सोचते हैं अब कि क्या खोया क्या पाया,
उनकी नफरत ने तोड़े बहुत मेरी वफ़ा के घर
 
Baith Kar Sochte Hai Ab Ki Kya Khoya Kya Paaya

Unki Nafrat Ne Tode Bahut Meri Wafa Ke Ghar
 
खुदा सलामत रखना उन्हें, जो हमसे नफरत करते हैं,
प्यार न सही नफरत ही सही, कुछ तो है जो वो हमसे करते हैं
 
Khuda Salamat Rakhna Unhe, Jo Hamse Nafrat Karte Hai

Pyaar N Sahi Nafrat Hi Sahi, Kuch Toh Hai Jo Wo Hamse Karte Hai



Read More - 

    Nafrat Shayari In Hindi | नफरत शायरी इन हिंदी Nafrat Shayari In Hindi | नफरत शायरी इन हिंदी Reviewed by Feel neel on March 31, 2020 Rating: 5

    2 comments:

    1. […] Nafrat Shayari In Hindi | नफरत शायरी इन हिंदी […]

      ReplyDelete
    2. I read this paragraph fully about the difference of most recent and previous
      technologies, it's remarkable article.

      P.S. If you have a minute, would love your feedback on my new website re-design. You can find it by searching for
      "royal cbd" - no sweat if you can't.

      Keep up the good work!

      ReplyDelete

    Powered by Blogger.