Insaniyat Shayari In Hindi | इंसानियत शायरी



Insaniyat Shayari In Hindi | इंसानियत शायरी


इंसानियत तो मैंने आज ब्लड बैंक में देखी थी,
खून की बोतलों पर मजहब लिखा नही होता


Insaniyat Toh Maine Aaj Blood Bank Me Dekhi Thi

Khoon Ki Botalon Par Majhab Likha Nahi Hota

 


आदमी आदमी से मिलता है
दिल मगर कम किसी से मिलता है -जिगर मुरादाबादी


Aadmi Aadmi Se Milta Hai

Dil Magar Kam Kisi Se Milta Hai -Jigar Muradabadi

 


खुद भूखा रहकर किसी को खिलाकर तो देखिए,

कुछ यूं इंसानियत का फ़र्ज निभाकर तो देखिए


Khud Bhookha Rehkar Kisi Ko Khilakar Toh Dekhiye

Kuch Yun Insaniyat Ka Farz Nibhakar Toh Dekhiye

 


भीड़ तन्हाइयों का मेला है
आदमी आदमी अकेला है -सबा अकबराबादी


Bheed Tanhaaiyon Ka Mela Hai

Aadmi-Aadmi Akela Hai -Saba Akbarabaadi

 


चंद सिक्कों में बिकता है इंसान का ज़मीर,
कौन कहता है मुल्क में महंगाई बहुत है


Chand Sikko Me Bikta Hai Insaan Ka Zameer

Kaun Kehata Hau Mulk Me Mehgaai Bahut Hai

 


सामने है जो उसे लोग बुरा कहते हैं
जिस को देखा ही नहीं उस को ख़ुदा कहते हैं -सुदर्शन फ़ाख़िर


Saamne Hai Jo Use Log Bura Kehate Hai

Jis Ko Dekha Hi Nahi Us Ko Khuda Kehate Hai -Sudarshan Fhakhir

 

Insaniyat Shayari In Hindi | इंसानियत शायरी

इन्सानियत की रौशनी गुम हो गई कहाँ,
साए तो हैं आदमी के मगर आदमी कहाँ

Insaniyat Ki Roshani Gum Ho Gayi Kahan

Saaye Toh Hai Aadmi Ke Magar Aadmi Kahan

 
बस्ती में अपनी हिन्दू मुसलमाँ जो बस गए
इंसाँ की शक्ल देखने को हम तरस गए -कैफ़ी आज़मी

Basti Me Apni Hindu Muslamaan Jo Bas Gaye

Insaa Ki Shakl Dekhne Ko Ham Taras Gaye -Kaifi Aazmi

 
बाकी है बस जमीं पे आदमी की भीड़,
इंसान को मरे हुए तो ज़माने गुजर गए
 
Baaki Hai Bas Zameen Pe Aadmi Ki Bheed

Insaan Ko Mare Hue Toh Zamane Guzar Gaye

 
घरों पे नाम थे नामों के साथ ओहदे थे
बहुत तलाश किया कोई आदमी न मिला -बशीर बद्र

Gharon Pe Naam The Naamon Ke Sath Ohade The

Bahut Talash Kiya Koi Aadmi N Mila -Bashir Badr

 
आइना कोई ऐसा बना दे, ऐ खुदा जो,
इंसान का चेहरा नहीं किरदार दिखा दे

Aaina Koi Aisa Bana De  Ae Khuda Jo

Insaan Ka Chehra Nahi Kirdaar Dikha De

 
उस के दुश्मन हैं बहुत आदमी अच्छा होगा
वो भी मेरी ही तरह शहर में तन्हा होगा-निदा फ़ाज़ली

Us Ke Dushman Hai Bahut Aadmi Achcha Hoga

Wo Bhi Meri Ho Tarah Shehar Me Tanha Hoga -Nida Fazli

 
यहाँ लिबास की कीमत है आदमी की नहीं,
मुझे गिलास बड़े दे शराब कम कर दे

Yahan Libaas Ki Keemat Hai Aadmi Ki Nahi

Mujhe Gilaas Bade De Sharaab Kam Kar De

 
मेरी जबान के मौसम बदलते रहते हैं,
मैं तो आदमी हूँ मेरा ऐतबार मत करना
 
Meri Zabaan Ke Mausam Badalte Rehate Hai

Mai Toh Aadmi Hu Mera Aitbaar Mat Karna

 
दिल के मंदिरों में कहीं बंदगी नहीं करते,
पत्थर की इमारतों में खुदा ढूंढ़ते हैं लोग

Dil Ke Mandiron Me Kahin Bandagi Nahi Karte

Patthar Ki Imaarton Me Khuda Dhoondhte Hai Log

 
सच्चाई थी पहले के लोगों की जुबानों में,
सोने के थे दरवाजे मिट्टी के मकानों में
 
Sachchai Thi Pahle Ke Logon Ki Zubaano Me

Sone Ke The Darwaajon Mitti Ke Makaano Me

 
देखें करीब से तो भी अच्छा दिखाई दे,
इक आदमी तो शहर में ऐसा दिखाई दे

Dekhe Kareeb Se Toh Bhi Achcha Dikhaai De

Ik Aadmi Toh Shehar Me Aisa Dikhaai De

 
खुदा न बदल सका आदमी को आज भी यारों,
और आदमी ने सैकड़ो खुदा बदल डाले

Khuda N Badal Saka Aadmi Ko Aaj Bhi Yaaron

Aur Aadmi Ne Saikdon Khuda Badal Daale

 
फितरत, सोच और हालात का फर्क है वरना,
इन्सान कैसा भी हो दिल का बुरा नहीं होता

Fitrat Soch Aur Halaat Ka Fark Hai Varna

Insaan Kaisa Bhi Ho Dil Ka Bura Nahi Hota

 
इन्सानियत की रौशनी गुम हो गई कहाँ,
साए तो हैं आदमी के मगर आदमी कहाँ?

Insaniyat Ki Roshani Gum Ho Gayi Kahan

Saaye Toh Hai Aadmi Ke Magar Aadmi Kahan



Read More - 
Insaniyat Shayari In Hindi | इंसानियत शायरी Insaniyat Shayari In Hindi | इंसानियत शायरी Reviewed by Feel neel on April 21, 2020 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.